यमुनानगर, जागरण संवाददाता। साढौरा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का नया भवन बनने का रास्ता साफ हो गया है। स्वास्थ्य विभाग की ओर से 50 बेड के भवन का प्रस्ताव भेजा गया है। सरकार से बजट मिलते ही निर्माण कार्य शुरू हो जाएगा। नया भवन बनने से यहां पर मरीजों को बेहतर सुविधा मिल सकेगी। काफी समय से क्षेत्र के लोग बदहाल स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार की मांग कर रहे हैं। अभी तीन दिन से यहां पर क्षेत्र के लोगों द्वारा धरना भी दिया जा रहा है। क्षेत्र के लोगों की मांग है कि यहां पर चिकित्सकों की कमी दूर की जाए। जिससे मरीजों को इलाज मिल सके।  

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र साढौरा का भवन काफी पुराना व जर्जर हालत में है। हालात यह है कि बरसात होने पर यहां जलजमाव हो जाता है। जिससे मरीजों को परेशानी झेलनी पड़ती है। पिछले दिनों हुई बरसात का पानी भी अस्पताल परिसर में जमा हुआ है।

चिकित्सकों की भी है कमी

साढौरा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर इलाज के लिए करीब 80 हजार की आबादी निर्भर है, लेकिन यहां पर चिकित्सक न होने और बदहाल व्यवस्था की वजह से मरीजों को सुविधा नहीं मिल पा रही है। इलाज के लिए मरीजों को यमुनानगर या फिर अंबाला जाना पड़ता है। फिलहाल यहां पर आपातकालीन सेवाएं भी नहीं मिल रही है। जिससे भी मरीजों की दिक्कत बढ़ी हुई है। 

विस में भी उठा था मुद्​दा

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र साढौरा की बदहाली का मुद्​दा विधानसभा में भी उठा था। यहां पर पड़ी खस्ताहाल बिल्डिंग व चिकित्सकों की कमी को लेकर सवाल उठाया गया था। जिस पर स्वास्थ्य मंत्री ने जल्द ही यहां पर निर्माण कार्य कराने का जवाब दिया था। इसके बाद ही नए भवन का प्रस्ताव स्वास्थ्य विभाग की ओर से भेजा गया है। 

50 बेड बिल्डिंग 

सिविल सर्जन डा. विजय दहिया ने बताया कि साढौरा सीएचसी की 50 बेड की बिल्डिंग बनाने का प्रस्ताव भेजा गया है। फिलहाल तीन चिकित्सकों को यहां पर तैनात किया गया है। जिससे मरीजों को कोई दिक्कत न आए।

Edited By: Rajesh Kumar