जगमहेंद्र सरोहा, पानीपत : हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण में करोड़ों की जमीन का घोटाला सामने आया है। अधिकारियों ने फर्जीवाड़ा कर औद्योगिक सेक्टर 28 में 800 वर्ग मीटर जमीन बचत की बता एक उद्यमी को अलॉटमेंट लेटर जारी कर दिया। उद्यमी को करोड़ों की कीमत के प्लॉट के 52 लाख रुपये जमा कराने को कहा। हालांकि रुपये जमा कराने के पांच साल बाद भी कब्जा नहीं दिया गया है।

हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण द्वारा सेक्टर-29 पार्ट-टू के साथ लगती जमीन पर इंडस्ट्री के लिए सेक्टर 28 काटा था। इस सेक्टर में अब करीब 200 फैक्ट्री है। अधिकारियों ने मुख्य प्रशासक व संपदा अधिकारी पानीपत द्वारा 29 अक्तूबर 2013 को न्यू हाउ¨सग बोर्ड कॉलोनी निवासी चंद्रभान के नाम दो अलॉटमेंट लेटर जारी किए। इसके अनुसार सेक्टर-28 में प्लॉट नंबर-13 की जमीन को बचत की बताया। चंद्रभान को 6500 रुपये प्रति वर्ग मीटर के हिसाब जमा कराने की कही। अधिकारियों ने उद्यमी को 52 लाखा रुपये 31 जनवरी तक जमा कराने की हिदायत दी।

--------

मुख्य प्रशासक के पत्र की जांच में निकला फर्जीवाड़ा

उद्यमी चंद्रभान के बेटे विजय गुप्ता ने बताया कि उन्होंने मुख्य प्रशासक व संपदा अधिकारी के पत्र के आधार पर 18 दिसंबर 2013 को 52 लाख रुपये जमा करा दिए। मुख्य प्रशासक द्वारा जारी पत्र उनके रिकॉर्ड में कहीं पर भी नहीं मिला, जबकि संपदा अधिकारी द्वारा जारी पत्र रिकॉर्ड में मिल गया। उन्होंने अधिकारियों ने प्लॉट या जमा पैसे वापस करने की मांग की तो वे आनाकानी करने लगे। उसके पिता चंद्रभान ने इसकी शिकायत मुख्य प्रशासक को दी।

--------

डायरी कीपर से लेकर एईओ तक छह शामिल

मुख्य प्रशासक ने फर्जीवाड़े का मामला सामने आने के बाद इसकी जांच प्रशासक फरीदाबाद को सौंपी। जिसमें अतिरिक्त संपदा अधिकारी संतोष मेहता, प्रशासक रोहतक के डिप्टी सुपरिंटेंडेंट श्याम सुंदर, जेई सतीश कुमार, पटवारी एवं रिकॉर्ड कीपर कर्मबीर, डायरीमैन राजेश कुमार व अलॉटी उद्यमी चंद्रभान को शामिल किया गया है।

-------

प्रशासक के पास जांच अटकी

फरीदाबाद प्रशासक ने उद्यमी समेत सभी छह को नोटिस जारी कर जांच में शामिल कर लिया। इस मामले को लेकर पहली सुनवाई 30 दिसंबर 2015 व दूसरी सुनवाई 13 जनवरी 2016 को की। प्रशासक ने इस मामले से संबंधित रिकॉर्ड संपदा अधिकारी से मांगा गया।

------

वर्जन

सेक्टर-28 में 800 वर्ग मीटर प्लॉट फर्जी तरीके से जारी करने का मामला मेरी जानकारी में नहीं है। फरीदाबाद प्रशासक द्वारा रिकॉर्ड मांगने का पत्र भी सामने नहीं आया है। मुख्य प्रशासक व प्रशासक फरीदाबाद के पत्र पर एक्शन लिया जाएगा। कार्यालय में किसी तरह की गड़बड़ी सहन नहीं की जाएगी।

-विजय राठी, संपदा अधिकारी, पानीपत।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप