अंबाला, जागरण संवाददाता। भारत माला फेज-1 के तहत ट्विन सिटी में 37 किलो मीटर लंबी 6 लेन रिंग रोड का निर्माण होगा। यह रिंग रोड अंबाला छावनी, शहर और बराड़ा क्षेत्र के 30 गांवों से होकर निकाली जानी है। नेशनल हाईवे अथारिटी इंडिया ने सद्दोपुर से वाया पंजोखरा, रतनहेड़ी, खुड्डाकलां होकर जीटी रोड और सुल्लर के निकट हिसार हाईवे पर कनेक्ट होने वाले इस रिंग रोड में जमीन अधिगृहण के लिए अथारिटी ने 1956 एक्ट के तहत थ्री कैपिटल नोटिफिकेशन जारी किया है। नोटिफिकेशन जारी करने के साथ ही अंबाला प्रशासन को जमीन का अधिगृहण की कार्रवाई में सहयोग की अपेक्षा जताई है।

6 लेन का यह रिंग रोड अंबाला-चंडीगढ़ नेशनल हाईवे पर सद्दोपुर के पास से शुरू होकर पंजोखरा साहिब के पास अंबाला-रुड़की नेशनल हाईवे-344 से जुड़ेगा। उसके बाद टांगरी नदी को पार करते हुए रतनहेड़ी से होते हुए खुड्डा के पास अंबाला-जगाधरी नेशनल हाईवे-73 से जुड़ेगा। इसके बाद कैंट की नई अनाज मंडी के पास से मोहड़ा में जीटी रोड से कनेक्ट करेगा। मोहड़ा से गांव शाहपुर के ऊपर से होते हुए सुलर-बलाना के पास अंबाला-हिसार रोड को जोड़ेगा। इस रिंग रोड की कुल लंबाई करीब 37 किलोमीटर होगी।

इस रिंग रोड के लिए 30 गांवों में जमीन का अधिग्रहण होना है। नए प्लान के हिसाब से रिंग रोड की स्थिति में कुछ परिवर्तन हुआ है। पहले पीडब्ल्यूडी ने रिंग रोड के निर्माण को लेकर सर्वे कराया था, लेकिन सरकार ने नेशनल हाईवे अथारिटी की सर्वे पर मुहर लगाते हुए प्रोजेक्ट पर काम शुरू कराने की मंजूरी दी है। इसके लिए अधिग्रहित होने वाली जमीन के लिए 50 फीसदी मुआवजा केंद्र और 50 फीसदी राज्य सरकार देगी।

Edited By: Anurag Shukla