कैथल, जागरण संवाददाता। प्याज व टमाटर के बढ़ते भाव ने रसोई का बजट बिगाड़ दिया है। बढ़ते दामों के कारण खरीदारी कम हो गई है। इस समय प्याज के भाव 40 रुपये प्रति किलो व टमाटर 50 से 55 रुपये प्रति किलो बिक रहा है। सब्जियों मंडियों में टमाटर व प्याज के बढ़ते दामों के कारण लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। सब्जी खरीदने के लिए आ रहे ग्राहक प्याज व टमाटर के भाव सुनकर ही चकित रह जाते हैं।

महिला सोनिया व भारती ने बताया कि सब्जियों के भाव लगातार बढ़ रहे हैं, इससे जेब पर काफी असर पड़ गया है। पहले 100 रुपये में काफी सब्जी आ जाती थी, लेकिन अब 100 रुपये में एक किलो प्याज व एक किलो टमाटर ही मिल रहे हैं। भाव बढ़ने के कारण रसोई का बजट पूरी तरह से बिगड़ गया है। प्रशासन को इस तरफ ध्यान देने की जरूरत है, कहीं इन सब्जियों की कालाबाजारी तो नहीं हो रही है।

जानिए विक्रेताओं का क्‍या है कहना

विक्रेताओं का कहना है कि भाव बढ़ने के कारण ग्राहक कम हो रहे हैं। सब्जी विक्रेता राजू कालड़ा ने बताया कि नासिक का प्याज मंडी में आता है, लेकिन पिछले दिनों बरसात होने के कारण सप्लाई पर प्रभाव पड़ा तो भाव बढ़ गए। यही कारण टमाटर के भाव बढ़ने का भी रहा। अगले सप्ताह तक राजस्थान का प्याज शुरू हो जाएगा, इसके बाद प्याज के भाव 30 रुपये तक आ सकते हैं। अब प्याज के भाव ज्यादा होने के कारण लागत कम है। दीपावली के बाद स्थानीय सब्जी शुरू होने के बाद भाव में कमी आएगी। अब गोभी के भाव भी 50 रुपये प्रति किलो, आलू 20 रुपये प्रति किलो, शिमला मिर्च 70 रुपये प्रति किलो मंडियों में बिक रही है। 

पेट्रोल भी सौ के पार

वहीं पेट्रोल और डीजल की कीमत भी लगातार बढ़ रही है। पेट्रोल की कीमत सौ के पार हो गई है।

Edited By: Anurag Shukla