संस, मोरनी : मोरनी क्षेत्र के लोग तहसील में पटवारी की लापरवाही से परेशान हैं। लोग तहसील में अपने राजस्व व अन्य काम करवाने के लिए आते हैं लेकिन पटवारी के न मिलने पर परेशान होकर वापस लौट जाते हैं।

मोरनी की धारला पंचायत के सरपंच सुरेश पाल व बलदेव सिंह ने बताया कि लगभग दो माह पहले उन्होंने किसी से जमीन खरीदी थी जिसकी रजिस्ट्री 16 जुलाई को हुई थी। वह इंतकाल करवाने के लिए दो माह से परेशान हो रहे हैं लेकिन पटवारी के तहसील में न होने के कारण काम नहीं हो पा रहा है। ऐसे सैकड़ों लोग हर रोज तहसील पहुंच रहे हैं लेकिन पटवारी की गैरमौजूदगी के कारण उनके काम लटके हुए हैं जिससे वह परेशान हैं। तहसील में दो दिन नायब तहसीलदार के आने के लिए निर्धारित

मोरनी तहसील में दो दिन मंगलवार व शुक्रवार को नायब तहसीलदार आता है। इसी दिन ही क्षेत्र के लोग अपने काम राजस्व, जन्म प्रमाण पत्र, स्थायी निवास आदि कार्य करवाने तहसील में आते हैं। मगर पिछले कई दिनों से पटवारी के नदारद रहने से लोगों के काम नहीं हो पा रहे हैं। तहसील में आए कुछ लोगों ने बताया कि जब वह पटवारी से फोन पर संपर्क करते हैं तो पटवारी उन्हें सरकारी कार्य से व्यस्त होने की बात कहकर टाल देता है। लोगों का कहना है कि जब विभाग ने मोरनी तहसील में ग्रामीणों के कार्य के लिए दो दिन निर्धारित किए हुए हैं तो पटवारी उपलब्ध क्यों नहीं होता इसकी जांच होनी चाहिए। यदि पटवारी लापरवाही करता है तो उसपर कार्रवाई हो। मेरे पास कार्यभार ज्यादा : पटवारी

उधर, भोज जब्याल, भोज बालग व भोज नग्गल का काम देख रहे पटवारी सोमनाथ का कहना है कि उनके पास कोर्ट केस का कार्य व पिजौर के नानकपुर आदि व मोरनी के उपरोक्त भोज का कार्य होने के कारण कार्यभार अधिक है। इस कार्य को वह अकेले करने में असमर्थ हैं और दो स्थानों पर कार्य करने में कई बार कार्य छूट जाते हैं। फिर भी वह किसी का कार्य जानबूझकर नहीं रोकते हैं। कुछ पेंडिग इंतकाल अगले मंगलवार तक कर दिए जाएंगे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस