जासं, पंचकूला : गीता जयंती महोत्सव के दूसरे दिन शनिवार को सेक्टर-1 स्थित जैनेंद्र गुरुकुल में सांस्कृतिक कार्यक्रमों की धूम रही। दर्शकों ने बच्चों व कलाकारों द्वारा प्रस्तुत किए गए क्रार्यक्रम का आनंद लिया। सार्थक स्कूल की साक्षी ने भजन, सकेतड़ी स्कूल की टीम ने नृत्य प्रस्तुति, संस्कृति विद्यालय की ओर से श्लोकोच्चारण, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक स्कूल सेक्टर 15 ने नृत्य व भजन प्रस्तुति पेश किए। जबकि राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक स्कूल सेक्टर-6 के हर्ष ठाकुर ने गीता से मैंने क्या सीखा व हरियाणा सांस्कृतिक विभाग की ओर से डेढ़ घंटे की कृष्ण लीला का मंचन किया गया।

समारोह में रायपुररानी के श्रवण एवं वाणी नि:शक्त कल्याण केंद्र के 15 बच्चों की टीम ने सुदामा कृष्ण एक्ट और मधुबन में कन्हैया नाचे ग्रुप डांस के माध्यम से समारोह में आए सभी दर्शकों का मन मोह लिया और सभी ने तालियों से बच्चों का उत्साह बढ़ाया। श्रवण एवं वाणी नि:शक्त कल्याण केंद्र की सहायक निदेशक सीमा ने बताया कि ये वे बच्चे हैं, जो सुन व बोल नहीं सकते। फिर भी बच्चों को गीता जंयती में प्रस्तुति के लिए तैयार किया गया। श्री कृष्ण कृपा परिवार की ओर से श्रवण एवं वाणी नि:शक्त कल्याण केंद्र के बच्चों को प्रस्तुति के लिए 5100 रुपये का पुरस्कार प्रदान किया गया। प्रचार वैन के जरिये गांवों तक पहुंचाया गीता का संदेश

जिला प्रशासन द्वारा गीता जंयती महोत्सव के उपलक्ष्य में गीता के संदेश का प्रचार करने वाली एलईडी वैन को जिले के विभिन्न क्षेत्रों में भेजा गया। यह वैन पिजौर खंड के गांव बीड़ घग्घर, चंडीमंदिर, विराटनगर, इसर नगर, इस्लाम नगर, पतन, सहित अन्य गांवों में गई। इस प्रचार वैन का उद्देश्य लोगों में भगवान भक्ति के प्रति अनुराग पैदा करना है। अपने संदेश में उपायुक्त ने कहा कि गीता के संदेशों को जीवन में धारण कर आतंरिक और बाहरी द्वेष समाप्त हो जाते हैं और व्यक्ति हिसा और लालच की भावना से पूर्णतय: दूर हो जाता है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस