जेएनएन, चंडीगढ़। हरियाणा की राजनीति में अपने पैर जमाने की कोश्‍ािशों में लगे अाम आदमी पार्टी के सुप्रीमो व दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने स्‍कूल और अस्‍पतालाें को इसका जरिया बनाया है। केजरीवाल ने मनोहर लाल को दिल्ली के स्कूल व मोहल्ला क्लीनिक देखने का न्योता दिया था, लेकिन मनोहर लाल ने इसका कोई जवाब नहीं दिया। इस पर एक बार फिर केजरीवाल ने मनोहर लाल को पत्र लिखा है। जवाब में मनोहर लाल ने कहा कि केजरीवाल पहले अपना राज्य संभालें।

मनोहर लाल ने कहा कि हरियाणा में कमियां दिखाने वाले पहले ही बहुत लोग हैं। हम केजरीवाल की गलतियां बताएंगे तो वह भागते बनेंगे। मनोहर लाल को लिखे पत्र में केजरीवाल का कहा, ''मैंने आपको  2 नवंबर, 2018 को पत्र लिखा था। उसका कोई जवाब नहीं आया। थोड़ा बुरा लगा। हमारे चाहे जितने राजनीतिक मतभेद हों, लेकिन मर्यादानुसार एक मुख्यमंत्री को दूसरे मुख्यमंत्री के पत्र का जवाब तो देना ही चाहिए। अपने पत्र में मैंने आपसे दिल्ली के मोहल्ला क्लीनिक देखने के लिए आपकी सुविधा की तारीख पूछी थी। साथ ही मैंने 12 नवंबर को हरियाणा की चंद डिस्पेंसरी देखने की इच्छा जाहिर की थी। आपने पत्र का जवाब नहीं दिया। क्या मैं मानूं कि आप इस बात से सहमत हैं कि दिल्ली के अस्पताल और स्कूल बहुत अच्छे हो गए हैं और हरियाणा के स्कूलों, अस्पतालों की हालत अच्छी नहीं है?''

मनोहर लाल को लिखे पत्र में केजरीवाल ने लिखा, ''इस बार जनता जाति और धर्म पर वोट नहीं देगी। मैं आपको चेता दूं हरियाणा में अगली सरकार उसकी बनेगी जो स्कूल और अस्पताल ठीक करेगा, जो जनता के काम करेगा।  इससे पहले, केजरीवाल ने 9 नवंबर को ट्वीट करके खट्टर से पूछा था कि आप आप मोहल्ला क्लीनिक देखने कब आ रहे हैं? खट्टर साहिब, आपके जवाब का इंतज़ार है? मैं 12 तारीख को हरियाणा डिस्पेन्सरी देखने आऊं?''

इससे पहले, केजरीवाल ने 9 नवंबर को ट्वीट करके मनोहर लाल से पूछा था कि आप आप मोहल्ला क्लीनिक देखने कब आ रहे हैं? खट्टर साहिब, आपके जवाब का इंतज़ार है? मैं 12 तारीख को हरियाणा डिस्पेन्सरी देखने आऊं? हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर की तरफ से दिल्ली के मोहल्ला क्लीनिकों को देखने की चुनौती स्वीकार के बाद अब दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने उन्हें पत्र लिखकर दिल्ली आने का न्योता भेजा था।

अरविंद केजरीवाल की तरफ से 2 नवंबर को लिखे गए पत्र में कहा गया था कि मुझे इस बात की खुशी है कि आप दिल्ली के मोहल्ला क्लीनिक देखने आ रहे हैं। देश की राजनीति के लिए ये शुभ संकेत है। आज तक देश की राजनीति जाति और धर्म के नाम पर चलती थी। अब ये बदलेगा। अब जो लोग स्कूल-अस्पताल बनवाएंगे, जनता उनको वोट देगी ना कि जाति और धर्म की बात करने वालों को।  केजरीवाल ने अपने पत्र में लिखा था, "दुनिया भर से बड़ी-बड़ी हस्तियां मोहल्ला क्लीनिक देखने आ रही हैं। अभी गुजरे 6 सितंबर को नॉर्वे की पूर्व प्रधानमंत्री और संयुक्त राष्ट्र के पूर्व महासचिव मोहल्ला क्लीनिक देखने आए थे। देखने के बाद उन्होंने मीडिया से बातचीत में मोहल्ला क्लीनिक की खूब तारीफ की और कहा कि ऐसे मोहल्ला क्लीनिक पूरी दुनिया में बनने चाहिए।"

केजरीवाल ने मोहल्ला क्लीनिक पर मनोहर लाल की तऱफ से दिए गए बयान को भी उन्हें याद दिलाते हुए लिखा था, "जब आपने मोहल्ला क्लीनिक को हल्ला क्लीनिक बोला तो लोगों को दुख हुआ, इसलिए मैंने आपको चुनौती दी कि आप मोहल्ला क्लीनिक देखने आइए और मैं हरियाणा की कुछ डिस्पेंसरी का निरीक्षण करने आता हूं।"  अपने पत्र में केजरीवाल ने ये भी लिखा था, "कृपया बताएं कि आप किस दिन दिल्ली के मोहल्ला क्लीनिक देखने आना चाहेंगे। निरीक्षण के दौरान मैं आपके साथ रहूंगा। आप किसी भी मोहल्ला क्लीनिक का औचक निरीक्षण कर लीजिएगा।"

चंडीगढ़ में हरियाणा दिवस यानी 1 नवंबर को अपनी प्रेस कांफ्रेस में केजरीवाल ने कहा था कि मनोहर लाल जी ल्ली के ऐसे 3 मोहल्ला क्लीनिक चुन लें जो उनके हिसाब से अच्छे न हों और मैं वहां के 2 मोहल्ला क्लीनिक चुन लेता हूं जो मेरे हिसाब से अच्छे हैं। इसके बाद मैं, उनके साथ-साथ चलूंगा। इसी तरह, मैं 12 नवंबर को हरियाणा आऊंगा। मैं हरियाणा की 3 डिस्पेंसरी चुन लेता हूं और मनोहर लाल जी हरियाणा की 2 डिस्पेंसरी चुन लें जिनमें उन्होंने बहुत अच्छा काम किया हो। मैं उम्मीद करता हूं कि वो भी हरियाणा की डिस्पेंसरी देखने मेरे साथ चलेंगे। केजरीवाल ने चंडीगढ़ की अपनी प्रेस कांफ्रेंस में ये भी कहा था कि मनोहर लाल साहब मोहल्ला क्लीनिक देखने आएं, मैं बॉर्डर पर उनका स्वागत करूंगा।

केजरीवाल 17 को देखेंगे असंध की डिस्पेंसरी

केजरीवाल 17 नवंबर को करनाल के असंध की डिस्पेंसरी का दौरा करेंगे। आप के प्रदेश संयोजक नवीन जयङ्क्षहद ने इसके लिए पानीपत समेत करनाल में जनसंपर्क तेज कर दिया है। इसी कड़ी में जयहिंद सोमवार को यहां स्काईलार्क में मीडिया से रूबरू हुए। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार अस्पतालों में बेहतर सुविधाएं उपलब्ध कराने का दावा कर रही है, जबकि सीएम, उनके मंत्री या भाजपा के अन्य नेता भी छोटी सी बीमारी होने पर प्राइवेट अस्पताल जाते हैं। यहां सुविधाएं अच्छी हैं तो सीएम और मंत्रियों को भी सरकारी अस्पतालों में इलाज कराना चाहिए।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Kamlesh Bhatt

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस