चंडीगढ़, जेएनएन। हरियाणा भाजपा ने विधानसभा चुनाव में जीत के लिए खास रणनीति तैयार की है। भाजपा का मानना है कि सदस्यता अभियान में विधानसभा चुनाव की जीत का मूल मंत्र छिपा है। इसी कारण पार्टी अपने सदस्‍यता अभियान को चुनाव में जीत के लिए खास हथियार बनाने की तैयारी में है। ऐसे में भाजपा हाईकमान ने हरियाणा को लक्ष्य से ढाई गुणा अधिक नए सदस्य बनाने का टारगेट थमा दिया है।

हर हलके में 52 हजार सदस्यों का परिवार तैयार कर रही भाजपा

पिछले माह राज्य भाजपा को साढ़े छह लाख नए सदस्य जोडऩे की जिम्मेदारी दी गई थी। प्रदेश संगठन ने इस लक्ष्य को हासिल कर लिया, जिसके तुरंत बाद साढ़े आठ लाख और नए सदस्य बनाने का टारगेट दे दिया गया है। हरियाणा में भाजपा के फिलहाल 32.5 लाख सदस्य हैं। 11 अगस्त तक साढ़े छह लाख नए सदस्य बनाकर इस संख्या को 39 लाख तक पहुंचाना था, जिसमें सफलता हासिल कर ली गई है। अब यह लक्ष्य साढ़े छह लाख की बजाय 15 लाख कर दिया गया है। यानी लक्ष्य में साढ़े आठ लाख नए सदस्य जोडऩे की जिम्मेदारी बढ़ा दी गई है। भाजपा अब राज्य में 47.50 लाख सदस्यों का परिवार खड़ा करेगी। यह टारगेट 20 अगस्त तक पूरा करने की चुनौती संगठन को सौंपी गई है।

प्रदेश इकाई ने हासिल किया साढ़े छह लाख सदस्य बनाने का लक्ष्य

राज्य में 90 विधानसभा सीटें हैं। 47 लाख 50 हजार सदस्य संख्या का लक्ष्य पूरा होते ही हर हलके में 52 हजार 222 सदस्यों का परिवार तैयार हो जाएगा। अभी तक यह संख्या 36 हजार 111 सदस्यों की है। एक विधानसभा सीट पर एक से डेढ़ लाख तक मतदाता होते हैं। जिस पार्टी को 50 हजार से अधिक मत हासिल हो जाएं, उसकी जीत की राह आसान हो जाती है। ऐसे में भाजपा अपने खुद के सदस्यों के बूते विधानसभा चुनाव जीतने का माहौल तैयार कर रही है।

सह सदस्यता प्रमुख विशाल सेठ के अनुसार प्राथमिक सदस्यता का लक्ष्य पूरा होने के बाद सक्रिय सदस्य बनाए जाएंगे। सभी पुराने 23 हजार सक्रिय सदस्य अब अस्तित्व में नहीं रहेंगे। जो भी सदस्य अपने साथ 25 नए सदस्य बनाएगा, उसे सक्रिय सदस्य माना जाएगा। प्राथमिक सदस्यता के सत्यापन के लिए एक सप्ताह का समय निर्धारित किया गया है, जिसकी समय अवधि 31 अगस्त तक रहेगी। तीन सदस्यीय प्रांतीय सत्यापन समिति में जगदीश चोपड़ा, धर्मवीर डागर और सुरेंद्र बंसल को शामिल किया गया है।

यह भी पढ़ें: महिलाओं और बच्‍चों को रोडवेज की बसों में दो दिन मिलेगी मुफ्त यात्रा की सुविधा

विशाल सेठ के मुताबिक हर जिले में भी एक सत्यापन समिति बनाई गई है। सक्रिय सदस्य बनने के बाद बूथ, मंडल, जिला और फिर प्रदेश के चुनाव होंगे। चुनाव प्रक्रिया में भागीदारी करने का अधिकार पार्टी के सक्रिय सदस्यों को ही है। उन्होंने बताया कि केंद्र की मोदी सरकार और राज्य की मनोहर सरकार के कामकाज की बदौलत लोग भारी संख्या में दिल से भाजपा के साथ जुड़ रहे हैं। हरियाणा में भाजपा पहले भी 32 लाख 50 हजार सदस्यों के साथ सबसे बड़ी पार्टी थी और लक्ष्य पूरा होने के बाद 47 लाख 50 हजार सदस्यों के साथ सबसे मजबूत पार्टी होगी।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

 

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Sunil Kumar Jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप