जेएनएन, चंडीगढ़। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आयुष्मान भारत योजना से फिलहाल हरियाणा के 22 सरकारी जिला अस्पतालों, एक ईएसआइ और एक मेडिकल कालेज को जोड़ा गया है। निजी अस्पताल अभी इस योजना के दायरे में नहीं लाए गए। हालांकि निजी अस्पतालों ने भी योजना में खास रूचि नहीं दिखाई है।

15 अगस्त को 22 सरकारी अस्पतालों, एक ईएसआइ और एक मेडिकल कालेज में शुरू होगी योजना

हरियाणा सरकार 15 अगस्त से आयुष्मान योजना की शुरुआत करेगी। केंद्र व राज्य सरकार के सहयोग के प्रदेश के 15.50 लाख गरीब परिवारों को इन अस्पतालों में पांच लाख रुपये वार्षिक तक की मेडिकल सुविधा निशुल्क प्रदान की जाएगी। हालांकि यह संख्या 2011 की जनगणना के हिसाब से तय की गई है, लेकिन 2018 में आबादी काफी बढ़ गई है। इसलिए योजना के लाभ से लाखों लोगों के वंचित रहने की आशंका है।

हरियाणा के 15.50 लाख गरीब परिवारों को मिलेगा हर साल पांच लाख रुपये का मुफ्त इलाज

स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने सोमवार को अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक में आयुष्मान भारत योजना को लागू करने पर विस्तार से चर्चा की। मुख्यमंत्री मनोहर लाल पहले ही अपने निवास पर मंत्रियों व अधिकारियों की बैठक ले चुके हैैं। अनिल विज के अनुसार पांच लाख रुपये तक के इलाज की सुविधा पहले सरकारी अस्पतालों में दी जाएगी, जिसे बाद में सरकार के पैनल वाले निजी अस्पतालों में भी लागू किया जाएगा।

विज के अनुसार, इस योजना के तहत सभी लाभार्थियों को प्रधानमंत्री कार्यालय से पत्र प्राप्त होगा, जिसको अस्पतालों में दिखाकर सुविधाएं प्राप्त कर सकेंगे। राज्य के अस्पतालों में मरीजों की सुविधा के लिए आयुष्मान मित्रों को लगाया जाएगा। इसके तहत लिए 170 आयुष्मान मित्रों को चंडीगढ़ में प्रशिक्षित किया जा रहा है।

हरियाणा में खुलेंगे 400 वेलनेस सेंटर

स्वास्थ्य मंत्री के अनुसार हरियाणा में 400 वेलनेस सेंटर बनाने की स्वीकृति दी गई है। 15 अगस्त तक राज्य में 24 और इस वर्ष के अंत तक प्रदेश में 200 वेलनेस सेंटर खोलने का लक्ष्य है। बैठक में स्वास्थ्य विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव आरआर जोवल, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की प्रबंध निदेशक अमनीत पी कुमार, आयुष विभाग के महानिदेशक डा. साकेत कुमार, स्वास्थ्य महानिदेशक डॉ. सतीश अग्रवाल मौजूद रहे।

Posted By: Sunil Kumar Jha