मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जेएनएन, चंडीगढ़। हरियाणा में विधानसभा चुनाव अक्टूबर में ही होंगे। मुख्यमंत्री मनोहर लाल की अध्यक्षता में हुई राज्य मंत्रिमंडल की बैठक के बाद सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री कृष्ण कुमार बेदी ने इस बारे में स्थिति साफ कर दी है।

हरियाणा के तमाम राजनीतिक दलों के नेता कयास लगा रहे थे कि मंगलवार को कैबिनेट की बैठक में विधानसभा भंग करने तथा लोकसभा के साथ ही विधानसभा चुनाव कराने का फैसला लिया जा सकता है। मीडिया ब्रीफिंग के दौरान राज्य मंत्री कृष्ण कुमार बेदी और सीएम के मीडिया सलाहकार राजीव जैन ने कहा कि लोकसभा व विधानसभा चुनाव अपने-अपने समय पर होंगे।

राज्य मंत्री ने सरकार द्वारा आठ मार्च को फिर से कैबिनेट की मीटिंग बुलाए जाने के फैसले की जानकारी भी मीडिया को दी। नौ मार्च को देश में लोकसभा चुनाव का ऐलान हो सकता है। राज्य सरकार द्वारा आठ मार्च को दोबारा कैबिनेट की बैठक बुला लिए जाने के बाद फिर एक साथ चुनाव कराए जाने की चर्चाओं ने जन्म ले लिया है।

दूसरी तरफ एक सवाल के जवाब में राज्य मंत्री बेदी ने कहा कि कैबिनेट की बैठक में पीएलपीए में संशोधन पर कोई चर्चा नहीं हुई। कांग्र्रेस व इनेलो समेत तमाम विपक्षी दल पीएलपीए में संशोधन का विरोध कर रहे हैैं। हरियाणा विधानसभा में किए गए संशोधन पर सुप्रीम कोर्ट रोक लगा चुका है। बेदी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के किसी आदेश की कापी अभी राज्य सरकार के पास नहीं पहुंची है। लिहाजा विधानसभा में किया गया संशोधन बरकरार है।

विधानसभा के बजट सत्र के आखिरी दिन पीएलपीए कानून में बदलाव कर अरावली क्षेत्र में निर्माण कार्यों को मंजूरी देने व भवन निर्माण के लिए पेड़ काटने को मंजूरी प्रदान की गई थी, जिसका कांग्र्रेस ने खुला विरोध करते हुए बायकाट भी किया था।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

Posted By: Kamlesh Bhatt

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप