Move to Jagran APP

ताऊ देवीलाल की जयंती तक 2400 गांवों में दस्तक देगी इनेलो,यात्रा में उठे मुद्दे बनेंगे चुनावी घोषणापत्र का आधार

इनेलो हर साल स्वर्गीय उपप्रधानमंत्री की जयंती मनाती है इस बार भी जयंती पर 25 सितंबर को पार्टी की तरफ से कुरुक्षेत्र में रैली की जाएगी यहीं पर परिवर्तन यात्रा का समापन किया जाएगा। यात्रा में उठे मुद्दों को चुनावी घोषणापत्र का भी आधार बनाया जाएगा।

By Jagran NewsEdited By: Gurpreet CheemaPublished: Fri, 26 May 2023 03:04 PM (IST)Updated: Fri, 26 May 2023 03:04 PM (IST)
अभय चौटाला ताऊ देवीलाल की जयंती तक 2400 गांवों में दस्तक देंगे। (फाइल फोटो)

चंडीगढ़,राज्य ब्यूरो। सत्ता परिवर्तन के लिए यात्रा पर निकले इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) के प्रधान महासचिव अभय चौटाला ताऊ देवीलाल की जयंती तक 2400 गांवों में दस्तक देंगे। इस दौरान इनेलो विधायक सभी 90 विधानसभा क्षेत्रों में 4200 किलोमीटर तक पहुंचेंगे।

परिवर्तन पदयात्रा का जयंती पर होगा समापन

इनेलो हर साल स्वर्गीय उपप्रधानमंत्री की जयंती मनाती है, इस बार भी जयंती पर 25 सितंबर को पार्टी की तरफ से कुरुक्षेत्र में रैली की जाएगी, यहीं पर यात्रा का समापन होगा। वहीं सम्मान दिवस रैली में विपक्ष के कई दल एकजुट होकर सत्ता परिवर्तन का शंखनाद करेंगे। इनेलो में जान फूंकने की कोशिश में जुटे अभय चौटाला ने 24 फरवरी को मेवात के सिंगार गांव से ‘परिवर्तन पदयात्रा आपके द्वार’’ का आगाज किया था।

पांव में चोट लगने के बावजूद डटे रहे अभय चौटाला

पूर्व मुख्यमंत्री और इनेलो सुप्रीमो ओमप्रकाश चौटाला ने खुद यात्रा को हरी झंडी दिखाई थी। शुक्रवार तक अभय चौटाला ने 85 दिन की यात्रा पूरी कर ली। अब तक करीब 12 जिलों के 46 विधानसभा क्षेत्रों के 800 से अधिक गांवों में पहुंच चुके चौटाला ने 1700 किलोमीटर की यात्रा कर ली गई है।

इस दौरान एक समय ऐसा भी आया, जब उनके पांव के अंगूठे में नाखून धंसने के कारण जख्म हो गया था। पांव में जख्म होने से यात्रा को लेकर विरोधियों ने सवाल उठाने शुरू कर दिए थे। डॉक्टर ने पांव का आपरेशन किया और लंबे समय तक आराम करने और यात्रा न करने की सलाह दे दी थी। परंतु उन्होंने जख्म की परवाह न करते हुए दो दिन बाद ही दोगुने जोश के साथ यात्रा फिर शुरू कर दी।

कार्यकर्ता के गांव में विश्राम

चौटाला रोजाना 18 से 20 किलोमीटर की पैदल यात्रा करते हैं। खास बात ये है कि वे रात्रि ठहराव गांव में ही उस कार्यकर्ता के घर पर करते हैं जहां कभी जननायक स्वर्गीय देवीलाल और चौधरी ओम प्रकाश चौटाला मुख्यमंत्री रहते उनके यहां ठहरते थे। अपनी इस यात्रा के दौरान अभय चौटाला भाषण कम दे रहे हैं और लोगों से वन टू वन बात अधिक कर रहे हैं। साथ ही उनकी स्थानीय समस्याओं के बारे में भी जानकारी ले हैं।

यात्रा में सामने आ रहे कई मुद्दे

यात्रा के दौरान चौटाला के समक्ष में पीने का स्वच्छ पानी नहीं मिलना, स्कूलों के जर्जर हालात और अध्यापकों की कमी, अस्पतालों में डॉक्टर और स्टाफ की कमी, गांवों में बच्चों के लिए खेल स्टेडियम न होना, प्रशिक्षकों की कमी, टूटी सड़कों, कर्मचारी विरोधी नीतियों सहित अन्य मुद्दे उठाए जा रहे हैं। इनमें से कई मुद्दों को इनेलो चुनावी घोषणापत्र में शामिल कर सकती है।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.