Move to Jagran APP

Chandigarh News: दूसरी शादी के बाद भी पहले पति की मौत के मुआवजे पर पत्नी का हक, पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट ने कही ये बड़ी बात

पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट ने मोटर एक्सीडेंट क्लेम ट्रिब्यूनल रेवाड़ी द्वारा मृतक की विधवा को पुनर्विवाह के बाद भी मुआवजे के लिए हकदार मानने की चुनौती को खारिज कर दिया है। साथ ही कोर्ट ने कहा कि विधवा का दोबारा विवाह करना निजी निर्णय किसी को दखल का अधिकार नहीं है। इसके चलते पुनर्विवाह के बाद भी पहले पति की मौत के मुआवजे की पत्नी हकदार है।

By Jagran NewsEdited By: Deepak SaxenaPublished: Fri, 24 Nov 2023 10:35 PM (IST)Updated: Fri, 24 Nov 2023 10:35 PM (IST)
Chandigarh News: दूसरी शादी के बाद भी पहले पति की मौत के मुआवजे पर पत्नी का हक, पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट ने कही ये बड़ी बात
हाईकोर्ट ने याचिका पर कहा- दूसरी शादी के बाद भी पहले पति की मौत के मुआवजे पर पत्नी का हक।

राज्य ब्यूरो,चंडीगढ़। मोटर एक्सीडेंट क्लेम ट्रिब्यूनल रेवाड़ी द्वारा मृतक की विधवा को पुनर्विवाह के बाद भी मुआवजे के लिए हकदार मानने को चुनौती देने वाली बीमा कंपनी की याचिका को पंजाब-हरियाणा हाई कोर्ट ने सिरे से खारिज कर दिया। हाईकोर्ट ने कहा कि पति की मौत के बाद दोबारा विवाह करना पूरी तरह से पत्नी का निजी निर्णय है, जिसमें किसी को दखल का अधिकार नहीं है। पत्नी दूसरा विवाह करने के बाद भी पहले पति की मृत्यु के चलते मिलने वाले मुआवजे की हकदार है।

loksabha election banner

पुनर्विवाह के बाद भी पहले पति की मौत के मुआवजे की पत्नी हकदार

याचिका दाखिल करते हुए बीमा कंपनी व मृतक के अभिभावकों ने मोटर वाहन क्लेम ट्रिब्यूनल के आदेश में संशोधन की मांग की थी। याचिका में दलील दी गई थी कि स्कूल बस और मोटर साइकिल की टक्कर में जोगिंदर सिंह की 3 मार्च 2010 को मौत हो गई थी। इस मामले में एमएसीटी रेवाड़ी ने 18 लाख रुपये का मुआवजा तय किया और इसका 40 प्रतिशत मृतक की विधवा को देने का आदेश जारी किया। हाईकोर्ट में दलील दी गई कि दोबारा विवाह करने के बाद मृतक की पत्नी उस पर निर्भर नहीं थी और ऐसे में उसे मुआवजा नहीं दिया जाना चाहिए।

ये भी पढ़ें: Jind Crime News: छात्राओं से अश्लीलता मामले में ADGP ने किया स्कूल का दौरा, कृत्य में शामिल अन्य लोगों की पहचान कर रहा प्रशासन

मृतक के परिजनों और बीमा कंपनी की मांग की किया खारिज

हाई कोर्ट ने सभी पक्षों को सुनने के बाद अपना फैसला सुनाते हुए कहा कि मृतक की विधवा ने 2013 में दोबारा विवाह किया था। पहले पति के जीवित रहते वह उसके साथ रहती थी और पूरी तरह से उस पर निर्भर थी। पति की मौत के बाद दोबारा विवाह करना उसका निजी निर्णय है जिसमें किसी को दखल का अधिकार नहीं है। दोबारा विवाह करने के बाद भी वह अपने पहले पति की मौत के लिए मिलने वाले मुआवजे से वंचित नहीं की जा सकती है। ऐसे में मृतक के परिजनों और बीमा कंपनी की इस मांग को पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट ने सिरे से खारिज कर दिया।

ये भी पढ़ें: Yamunanagar Crime News: बेशकीमती रेड सैंड बोआ सांप की तस्करी में चार गिरफ्तार, 20 लाख में रुपये में हुआ था सौदा


Jagran.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरेंWhatsApp चैनल से जुड़ें
This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.