जेएनएन, चंडीगढ़। कांग्रेस नेता व हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने हरियाणा सरकार द्वारा एक भूमि सौदे के मामले में उनके व राबर्ट वाड्रा के खिलाफ सरकार द्वारा जांच की अनुमति देने पर टिप्पणी की। कहा कि यह कार्रवाई सरकार के इशारे पर की गई एक निजी शिकायत के आधार पर है। इसमें कुछ भी नहीं है। यह उन्हें बदनाम करने का प्रयास है। सरकार मामले में राजनीति कर रही है। कार्रवाई राजनीति से प्रेरित है।

बता दें, शिकोहपुर जमीन घोटाले में हरियाणा सरकार ने भूपेंद्र सिंह हुड्डा व राबर्ट वाड्रा के खिलाफ दर्ज एफआइआर में जांच की अनुमति दे दी है। इसकी पुष्टि खुद गुरुग्राम के पुलिस आयुक्त केके राव ने की है। उन्होंने कहा कि जांच तेज कर दी गई है।

इसी साल एक सितंबर को नूंह निवासी सुरेंद्र शर्मा ने खेड़कीदौला थाने में वाड्रा, हुड्डा सहित डीएलएफ व ओंकारेश्वर प्रॉपर्टीज के खिलाफ मामला दर्ज कराया था। पूर्व सीएम का मामला होने के कारण जांच शुरू करने के लिए पुलिस ने प्रदेश सरकार से अनुमति मांगी थी। वाड्रा की कंपनी स्काईलाइट हॉस्पिटेलिटी ने शिकोहपुर में साढ़े तीन एकड़ भूमि ओंकारेश्वर प्रॉपर्टीज से साढ़े सात करोड़ में खरीदी थी।

बाद में कामर्शियल लाइसेंस मिलने पर इसे डीएलएफ यूनिवर्सल को 58 करोड़ में बेच दिया। शिकायत है कि न तो ओंकाश्वेर प्रॉपर्टीज ने स्काईलाइट के खाते में पैसा जमा कराया न स्काईलाइट ने स्टांप ड्यूटी के रूप में सरकार को कोई पैसा दिया। नियमों को ताक पर कॉमर्शियल लाइसेंस भी दिया गया। उस समय प्रदेश के मुख्यमंत्री हुड्डा थे।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें  

Posted By: Kamlesh Bhatt