जेएनएन, चंडीगढ़। हरियाणा में प्रशासनिक अमला अक्टूबर में होने वाले विधानसभा चुनाव की तैयारी में जुट गया है। राज्य निर्वाचन विभाग ने चुनाव की तैयारी के मद्देनजर बुलाई सर्वदलीय बैठक में राजनीतिक दलों से शांतिपूर्ण और निष्पक्ष चुनाव के लिए सहयोग मांगा है। राज्य के तमाम विपक्षी दलों ने विधानसभा चुनाव इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन (EVM) के बजाय बैलेट पेपर से कराने की मांग मुख्य निर्वाचन अधिकारी राजीव रंजन के सामने रखी है। अकेली भाजपा EVM से चुनाव कराए जाने के हक में है और भाजपा ने विपक्षी दलों की बैलेट पेपर से चुनाव कराने की मांग को मौजूदा समय में अव्यवहारिक करार दिया है।

चंडीगढ़ स्थित हरियाणा निवास में हुई बैठक में भाजपा की ओर से पीडब्ल्यूडी के तकनीकी एडवाइजर विशाल सेठ, कांग्रेस की ओर से कोषाध्यक्ष तरुण भंडारी, जननायक जनता पार्टी की ओर से कार्यालय सचिव रणधीर सिंह और इनेलो की ओर से प्रवक्ता जोगीराम के अलावा कई दलों के प्रतिनिधि शामिल हुए। चुनाव आयोग की ओर से मुख्य निर्वाचन अधिकारी राजीव रंजन और संयुक्त मुख्य निर्वाचन अधिकारी डॉ. इंद्रजीत सिंह ने जनप्रतिनिधियों के साथ संवाद कायम किया।

बैठक में लोकसभा चुनाव में निष्पक्षता पर सवाल उठाते हुए कांग्रेस कोषाध्यक्ष तरुण भंडारी ने कहा कि उनके फर्जी हस्ताक्षरों पर आइपीएस अधिकारी आरसी मिश्रा की बदली कर दी गई। उन्होंने जिन अधिकारियों की खुद लिखित में शिकायत की, उनके खिलाफ कोई कार्रवाई तक नहीं हुई। एक अन्य मामले में आइपीएस अधिकारी श्रीकांत जाधव की बदली की तैयारी कर ली गई थी। फर्जी हस्ताक्षर का मामला खुलने के बाद बदली रोकी गई। तरुण भंडारी की शिकायत पर मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने पुलिस महानिदेशक को इस मामले में एफआइआर दर्ज कर जांच कराने के लिए कहा है।

कांग्रेस कोषाध्यक्ष ने पार्टी की ओर से कहा कि चुनाव EVM के बजाय बैलेट पेपर से कराए जाएं। जजपा के रणधीर सिंह व इनेलो के जोगीराम ने भी EVM की भूमिका पर सवाल उठाए। भाजपा नेता विशाल सेठ ने कहा कि वोट बनाने के लिए बीएलओ सही से सर्वे नहीं करते। काफी संख्या में गलत वोट डिलीट कर दी गई। ऐसे में बीएलओ की जिम्मेदारी तय की जानी चाहिए।

सर्वदलीय बैठक में लोकसभा चुनावों के दौरान मुख्य वोटर लिस्ट के साथ नई बनी वोट की सप्लीमेंटरी सीट लगाए जाने का विरोध किया गया। मुख्य निर्वाचन अधिकारी राजीव रंजन ने कहा कि सप्लीमेंटरी वोटर लिस्ट की वजह से परेशानी आई थी। इस बार एक ही लिस्ट बनाई जाएगी। उन्होंने बताया कि 30 जुलाई तक नई वोट बनवाई जा सकेगी। बैठक में राजनीतिक दलों ने चुनाव प्रक्रिया के दौरान रैली, जुलूस और जलसे आदी के लिए विभिन्न प्रकार की मंजूरी दिए जाने में देरी का मुद्दा भी उठाया।

मुख्य निर्वाचन अधिकारी राजीव रंजन ने चुनावी शिकायतों का निपटारा भी जल्द किए जाने का भरोसा दिया है। राजनीतिक दलों ने यह मुद्दा उठाया कि कई बार शिकायतों पर कार्रवाई में कई दिन लग जाते हैं। ऐसे में शिकायत करने का कोई औचित्य भी नहीं रहता। राजीव रंजन ने कहा कि शिकायतों के निपटारे के लिए विधानसभा चुनावों में विशेष सेल होगा।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

Posted By: Kamlesh Bhatt

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप