जागरण संवाददाता, पंचकूला : पंचकूला महानगरीय प्राधिकरण के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) अजीत बालाजी जोशी ने प्रशासनिक अमले के साथ चंडीमंदिर स्थित एजुकेशन सिटी की साइट का दौरा किया। उनके साथ एचएसवीपी के प्रशासक, ईओ एवं अन्य अधिकारी भी थे। महापौर कुलभूषण गोयल विशेष तौर पर आमंत्रित किए गए क्योंकि उन्हे प्रोजेक्ट के बारे में सबसे अधिक जानकारी है। वह पहले नगर निगम के जरिये यहां पर एजुकेशन सिटी बनाना चाहते थे, लेकिन बाद में मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने पंचकूला विकास रैली के दौरान पंचकूला महानगरीय प्राधिकरण के माध्यम से एजुकेशन सिटी बनाने की घोषणा की थी। महापौर ने एजुकेशन सिटी के प्लान के बारे में अजीत बालाजी जोशी को बताया। अधिकारियों ने भी अपनी राय जोशी के सामने रखी। साइट का निरीक्षण करने के बाद अब पंचकूला महानगरीय प्राधिकरण के अधिकारी यहां पर कहां क्या बन सकता है, उसके बारे में रिपोर्ट तैयार करेंगे। यहां पर आसानी से एजुकेशन सिटी बन सकती है। एजुकेशन सिटी में ला, आर्किटेक्चर, इंजीनियरिग एंड टेक्नोलाजी, डेंटल, बिजनेस स्कूल सहित विभिन्न प्रोफेशनल कोर्सेस के लिए इंस्टीट्यूट्स को जगह अलाट करने की योजना है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने चंडीमंदिर में शिक्षा मनोरंजन केंद्र के लिए 100 करोड़ रुपये देने की घोषणा की थी। चंडीमंदिर में पंचकूला नगर निगम की 250 एकड़ जमीन पड़ी है। पिजौर-कालका और आसपास के क्षेत्र के युवाओं के लिए एजुकेशन हब बनाने के लिए वह करोड़ों रुपये का प्रोजेक्ट लेकर आएंगे। इसकी शुरुआत चंडीमंदिर से की जाएगी। चंडीमंदिर में शिक्षा के क्षेत्र से पीपीपी मोड पर शिक्षा के नए संस्थानों का निर्माण जल्द शुरू हो जाएगा। प्रदेश सरकार ने सीएलयू की दरें पंजाब के मुकाबले लाने पर पंचकूला में लोग बड़ी संख्या में प्रोजेक्ट लगाने के लिए तैयार हो गए हैं। जिससे पंचकूला के विकास के लिए फंड आएगा और रोजगार के साधन भी बढ़ेंगे। इस दौरान पार्षद राकेश वाल्मीकि भी मौजूद रहे।

Edited By: Jagran