चंडीगढ़ [सुधीर तंवर]। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के दौरे के लिए अद्र्धसैनिक बलों ने मोर्चा संभाल दिया है। हेलीकाप्टर व ड्रोन से भी नजर रखी जाएगी। शाह की मोटरसाइकिल की राह का बड़ा कांटा निकालने के बाद अब प्रदेश सरकार रास्ते के सियासी ब्रेकर हटाने में जुट गई है। विपक्ष के कई स्पीड ब्रेकर जहां अब भी शाह के जत्थे की राह में रोड़ा बने हैं, वहीं एनजीटी (नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल) का सामना करना सरकार के लिए बड़ी चुनौती है।

शाह के काफिले में शामिल होने जा रही करीब एक लाख बाइकों से संभावित प्रदूषण पर एनजीटी की निगाह है। कांग्रेस का एक गुट अलग से मोटरसाइकिलों से जींद में धमकने पर आमादा है तो वहीं कुछ महिलाएं भी इसी तैयारी में हैं। इन तमाम स्पीड ब्रेकरों को हटाने के लिए मुख्यमंत्री मनोहर लाल खुद रणनीति को अमलीजामा पहनाने में लगे हैं।

15 फरवरी को जींद में शाह की रैली और फिर 18 फरवरी को अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति के बलिदान दिवस के चलते सरकार कानून व्यवस्था को लेकर कोई जोखिम नहीं उठाएगी। हालांकि दिल्ली में सरकार व समिति के बीच समझौते से सरकारी तंत्र को फिलहाल सुकून जरूर मिला है।

प्रशासन को उम्मीद है कि दोनों आयोजन शांति से निपट जाएंगे। तमाम मंत्री, विधायक और कार्यकर्ता शाह की आवभगत के लिए जुट गए हैं। सीआइडी विंग विपक्षी दलों के नेताओं की गतिविधियों पर नजर रखे है। इनेलो, कांग्रेस और आम आदमी पार्टी ने अमित शाह के विरोध का ऐलान कर रखा है। जाटों द्वारा आंदोलन वापस लिए जाने के बावजूद सियासी दलों ने साफ किया कि हरियाणा में शाह का विरोध किया जाएगा।

अर्धसैनिक बलों की 80 कंपनियों ने मोर्चा संभाला

जाट आरक्षण संघर्ष समिति ने भले ही 15 फरवरी की समानांतर रैली रद कर दी है, लेकिन सुरक्षा की दृष्टि से पैरा मिल्ट्री फोर्स तैनात रहेगी। सभी संवेदनशील जिलों में अर्धसैनिक बलों की 80 कंपनियों ने कल ही मोर्चा संभाल लिया। पैरा मिल्ट्री फोर्स की सर्वाधिक कंपनियां जींद में लगाई गई हैं। अब हेलीकॉप्टर के जरिये गश्त शुरू कर दी जाएगी वहीं ड्रोन कैमरा टीमें भी हरकत में आ जाएंगी।

पुलिस की सीआइडी विंग को अलर्ट पर रखते हुए पल-पल की गतिविधियों की खबर जिला एवं राज्य मुख्यालय को भेजने के निर्देश दिए गए हैं। पुलिस महानिदेशक बीएस संधू ने कहा कि पैरा मिलिट्री फोर्स की टीमें 18 फरवरी की शाम तक तैनात रहेंगी। इसके बाद सभी जिलों से फीडबैक लेकर पैरा मिलिट्री को वापस भेजा जाएगा। केंद्र ने हरियाणा की मांग के अनुसार 150 कंपनियों की तैनाती को मंजूरी दी है।

शाह की रैली को लेकर हाईकोर्ट ने दिया सरकार व चुनाव आयोग को नोटिस

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की रैली में बाइक संख्या को लेकर हाईकोर्ट ने केंद्र, हरियाणा सरकार और हरियाणा चुनाव आयोग को नोटिस जारी किया है। हरियाणा सरकार को 14 फरवरी तक हाई कोर्ट में मामले को लेकर जवाब दाखिल करने के ओदश दिए गए हैं। रैली में भारी संख्या में बाइक ले जाने को लेकर अराइव सेफ सोसाइटी की तरफ से याचिका दायर की गई है।

विपक्ष को सीएम की नसीहत

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने विपक्षी दलों को नसीहत देते हुए कहा कि आपसी भाईचारा बनाए रखना हरियाणा की गौरवशाली राजनीतिक एवं सामाजिक परंपरा है। एक-दूसरे के राजनीतिक आयोजनों में व्यवधान डालना हमारे व्यवहार में कभी शामिल नहीं रहा। समाज के हर वर्ग को प्रजातांत्रिक तरीके से अपनी बात रखने का हक है, लेकिन ऐसा करते समय मर्यादा बनाए रखना सभी का कर्तव्य है। उम्मीद है कि गौरवशाली परंपरा न केवल बनी रहेगी वरन प्रदेश में आपसी भाईचारे का माहौल और भी मजबूत होगा।

यह भी पढ़ेंः सियासत का नया ट्रेंड, पहली बार किसी सियासी दल की रैली के विरोध में उतरे विपक्षी

 

Posted By: Kamlesh Bhatt