Move to Jagran APP

Palwal News: शौचालय के सीवर सफाई के दौरान चपेट में आए तीन मजदूर, एक की मौत

अनाज मंडी में बने सार्वजनिक शौचालय के सीवर की लाइन की सफाई करते हुए तीन मजदूर गैस की चपेट में आ गए। ये तीनों कर्मी बिना सेफ्टी उपकरण के ही सीवरेज की सफाई करने उतरे थे। सफाई कर्मियों को आनन-फानन में एक वाहन में ले जाकर पलवल में अस्पताल में भर्ती कराया। जहां पर चिकित्सकों ने 30 वर्षीय भोला को मृत घोषित कर दिया।

By Ankur Agnihotri Edited By: Shyamji Tiwari Fri, 12 Apr 2024 07:38 PM (IST)
सीवर सफाई के दौरान चपेट में आए तीन मजदूर, एक की मौत

संवाद सहयोगी, हथीन। हथीन की अनाज मंडी में बने सार्वजनिक शौचालय के सीवर की लाइन की सफाई करते हुए तीन मजदूर गैस की चपेट में आ गए। गंभीर हालत में तीनों मजदूरों को पलवल के अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां पर 30 वर्षीय भोला नामक मजदूर को चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया गया, जबकि 50 वर्षीय योगराज को इलाज के लिए एक प्राइवेट अस्पताल में दाखिल कराया गया।

बिना सेफ्टी उपकरण सीवरेज में उतरे

तीसरा मजदूर राजेश ठीक बताया गया है। घटना की सूचना मिलने के बाद हथीन पुलिस मौके पर पहुंच गई है ।समाचार लिखे जाने तक पुलिस अपनी कार्रवाई में लगी हुई थी। बताया गया है इन सफाई कर्मियों को सेफ्टी उपकरण उपलब्ध नहीं कराए थे। ये तीनों कर्मी बिना सेफ्टी उपकरण के ही सीवरेज की सफाई करने उतरे थे।

मार्केटिंग बोर्ड की तरफ से शुक्रवार को मंडी में बने सार्वजनिक शौचालय की सफाई के लिए कनिष्ठ अभियंता रोहतास तीन सफाई कर्मचारियों को लाया था। इनमें भोला हथीन, योगराज तिगांव तथा राजेश फरीदाबाद का बताया गया है। इन तीनों मजदूर ने दोपहर पहले तक एक सीवर की सफाई की। दोपहर बाद तीनों मजदूर शौचालय के पीछे बने सीवर लाइन को साफ करने के लिए सीवर में उतरे।

जहरीले गैस की चपेट में आए कर्मी

प्रत्यक्षदर्शी के मुताबिक भोला नामक सफाई कर्मी मशीन को लेकर सीवर लाइन में उतरा हुआ था। सीवर की सफाई करते समय गैस से भोला की तबीयत खराब होने लगी। उसकी तबीयत खराब होता देख सफाई कर्मी योगराज उसे बचाने के लिए नीचे उतरा, लेकिन दोनों जहरीली गैस के चपेट में आ गए। तीसरे कर्मचारी राजेश ने जैसे तैसे करके अन्य लोगों की सहायता से योगराज व भोला को सीवर लाइन से बाहर निकाला।

सफाई कर्मियों को आनन-फानन में एक वाहन में ले जाकर पलवल में अस्पताल में भर्ती कराया। जहां पर चिकित्सकों ने 30 वर्षीय भोला को मृत घोषित कर दिया। योगराज को एक प्राइवेट अस्पताल में इलाज चल रहा है। जहां उसकी हालत चिंताजनक बताई गई। पुलिस का कहना था कि सूचना मिल चुकी है। सूचना मिलने के बाद पुलिस के कर्मियों को अस्पताल भेजा गया है ।पुलिस इसमें शिकायत मिलने पर आगे की कोई कार्रवाई करेगी।

सालों से नहीं हुई थी सफाई

मार्केट कमेटी में किसान व आम लोगों के लिए बने सार्वजनिक शौचालय की वर्षों से सफाई नहीं हुई थी। अक्सर इस शौचालय में गंदगी की भरमार रहती थी। इसलिए किसान व आम लोग बहुत कम ही इसका इस्तेमाल करते थे ।क्योंकि यहां पर पानी की व्यवस्था भी ठीक नहीं थी। मंडी में आजकल खरीद का सीजन चल रहा है। इसलिए मार्केटिंग बोर्ड की तरफ से शौचालय की साफ सफाई आज शुरू कराई गई।

मंडी में आढ़तियों का कहना था कि इस शौचालय में साफ सफाई व्यवस्था चौपट थी। पिछले कई सालों से सीवर की सफाई नहीं होने के कारण इसमें गाद जमी हुई थी जिसमें गैस के कारण यह हादसा हुआ। आढ़तियों का यह भी कहना था कि अगर प्रतिवर्ष इसकी साफ सफाई की जाती तो गैस बनने का कोई सवाल नहीं था।

शौचालय के सीवर में छोटे-मोटे काम के लिए तीन मजदूरों को लगाया गया था। पता नहीं यह हादसा कैसे हुआ। दोपहर पहले सब कुछ ठीक-ठाक था। मौके पर पहुंच चुका हूं। घायल मजदूर को प्राइवेट अस्पताल में इलाज के लिए शिफ्ट कराया गया है। सेफ्टी के उपकरण भी दिए हुए थे।  - रोहताश, कनिष्ठ अभियंता मार्केटिंग बोर्ड फरीदाबाद

पिछले वर्षों में हुए प्रमुख हादसे

17 मार्च 2024 को गांव धतीर में पेंट बनाने वाली एक कंपनी में टैंक साफ करने उतरे तीन मजदूरों की शनिवार रात को मौत हुई थी।

वर्ष 2022 में शमशाबाद में एक कर्मी की मौत हो गई थी।

वर्ष 2018 में एसआरएस आवासीय सेक्टर में सीवरेज की सफाई के दौरान दो कर्मचारियों की जहरीली गैस के कारण दम घुटने से मौत हो गई।

वर्ष 2017 में सोहना रोड स्थित ईरा रेजिडेंसी में सीवरेज गटर की सफाई करते हुए चार मजदूरों की मौत हो गई।

वर्ष 2015 में महर्षि दयानंद चौक के समीप लैदर फैक्ट्री के टैंक को साफ करते समय चार मजदूरों की मौत हुई।