Move to Jagran APP

Palwal News: इस महीने पूरा होगा केजीपी-अलीगढ़ रोड इंटरचेंज का काम, जाम और प्रदूषण से मिलेगी निजात

एमपी-केजीपी एक्सप्रेस वे के निर्माण के बाद से ही पलवल शहर में जाम को कम को कम करने के लिए पलवल-अलीगढ़ रोड पर इंटरचेंज बनाए जाने की मांग उठ रही थी। इस पत्र में केजीपी एक्सप्रेस वे को पलवल-अलीगढ़ रोड से जोड़ने के लिए जमीन अधिग्रहित करने के आदेश दिए गए थे। इससे देवर एयरपोर्ट जाने वालों को भी फायदा होगा।

By Jagran NewsEdited By: Shyamji Tiwari Wed, 10 Apr 2024 04:29 PM (IST)
इस महीने पूरा होगा केजीपी-अलीगढ़ रोड इंटरचेंज का काम

कुलवीर चौहान, पलवल। कुंडली-गाजियाबाद-पलवल (केजीपी) एक्सप्रेस-वे से पलवल-अलीगढ़ रोड को जोड़ने के लिए इंटरचेंज का निर्माण कार्य इस माह पूरा हो जाएगा। इंटरचेंज का निर्माण कार्य करीब 95 प्रतिशत से ज्यादा पूरा हो चुका है। इसका निर्माण पूरा होते ही इसे ट्रायल के लिए खोल दिया जाएगा। 

जेवर एयरपोर्ट जाने वालों को होगा फायदा

इंटरचेंज के बनने से जेवर एयरपोर्ट समेत अन्य स्थानों के लिए जाने वाले वाहनों को शहर में दाखिल नहीं होना पड़ेगा। पलवल शहर को जाम व प्रदूषण से राहत मिलेगी। केएमपी-केजीपी एक्सप्रेस वे के निर्माण के बाद से ही पलवल शहर में जाम को कम को कम करने के लिए पलवल-अलीगढ़ रोड पर इंटरचेंज बनाए जाने की मांग उठ रही थी। क्षेत्रवासियों की इस मांग को देखते हुए इंटरचेंज को मंजूरी दी गई थी।

भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण द्वारा 12 अक्टूबर 2018 को पलवल जिला उपायुक्त को पत्र जारी किया गया था। इस पत्र में केजीपी एक्सप्रेस वे को पलवल-अलीगढ़ रोड से जोड़ने के लिए जमीन अधिग्रहित करने के आदेश दिए गए थे। वर्ष 2021 में परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय द्वारा केजीपी एक्सप्रेस वे को पलवल-अलीगढ़ रोड से जोड़ने के लिए 65 करोड़ रुपये की राशि मंजूर की गई थी।

इसके बाद पिछले साल केजीपी एक्सप्रेस-वे से पलवल-अलीगढ़ रोड को जोड़ने के लिए इंटरचेंज का निर्माण कार्य शुरू हुआ था। अब इस इंटरचेंज का निर्माण कार्य अंतिम चरण में है। हालांकि इसका निर्माण कार्य फरवरी माह में ही पूरा करने की तैयारी थी। मगर निर्माण कार्य फरवरी माह में पूरा नहीं हो पाया था।

जाम और प्रदूषण से मिलेगी मुक्ति

रोजाना पलवल-अलीगढ़ रोड से आठ हजार से ज्यादा वाहन आवागमन करते हैं। इनमे भारी वाहनों की संख्या अत्यधिक है। अभी इन वाहनों को शहर से होते हुए गुजरना पड़ता है। इसकी वजह से शहर में जाम की स्थिति पैदा होती है और प्रदूषण भी फैलता है। इंटरचेंज के शुरू हो जाने से शहर में जाम और प्रदूषण से राहत मिलेगी।

अलीगढ़ से आने वाले वाहन शहर में दाखिल होने की बजाय सीधे इस इंटरचेंज का उपयोग कर केजीपी-केएमपी एक्सप्रेस वे और राष्ट्रीय राजमार्ग-19 पर पहुंच सकेंगे। आगरा, गुरुग्राम, मानेसर, रेवाड़ी समेत अन्य हिस्सों से आने वाले वाहन बिना शहर में दाखिल हुए गांव अटोहां में केजीपी से होते हुए इस इंटरचेंज का उपयोग कर अलीगढ़ जा सकेंगे। यह इंटरचेंज जेवर एयरपोर्ट से आवागमन की राह को भी आसान बनाएगा।  

इसी के साथ इंटरचेंज के बनने से व्यवसायिक रूप से भी क्षेत्र को बड़ा फायदा होगा। अलीगढ़ रोड पर पड़ने वाले गांवों को भी इसका विशेष रूप से फायदा होगा। पेलक, ताराका, घोड़ी, चांदहट, सिहौल, मीसा, गुरवाड़ी, किठवाड़ी, बड़ौली, खजूरका, बड़ोली, राजपुर खादर समेत दर्जनों गांव सीधे केजीपी एक्सप्रेस वे से जुड़ जाएंगे। 

अभी मौजूद है एक ही इंटरचेंज 

केएमपी-केजीपी एक्सप्रेस वे पर जिले के अंदर यह दूसरा इंटरचेंज होगा। पहला इंटरचेंज राष्ट्रीय राजमार्ग-19 पर स्थित है, जो केएमपी और केजीपी को आपस में जोड़ता है। केएमपी पर मंडकौला-के समीप एक तीसरा इंटरचेंज बनाया जाना भी प्रस्तावित है।    

इंटरचेंज का निर्माण कार्य कर रहे ठेकेदार सतीश चौधरी के मुताबिक इस इंटरचेंज का निर्माण कार्य इस माह में पूरा कर लिया जाएगा। इसके बाद इसे ट्रायल के लिए वाहनों के लिए खोल दिया जाएगा। इसका उद्घाटन होते ही यह पूरी तरह जनता को समर्पित हो जाएगा।