संवाद सहयोगी, हथीन: उपमंडल के सबसे बड़े गांव उटावड़ के बंज मोहल्ला का मुख्य रास्ता दूषित पानी से भरा हुआ है। पानी निकासी नहीं होने के कारण ग्रामीणों को दूषित पानी से होकर गुजरना पड़ता है। हालांकि स्थानीय लोग कई बार सरपंच व खंड विकास एवं पंचायत विभाग से भी दूषित पानी की निकासी को लेकर गुहार लगा चुके हैं, लेकिन इनकी किसी ने नहीं सुनी। शासन प्रशासन की अनदेखी से ग्रामीण आहत नजर आए। ग्रामीणों ने पंचायत विभाग से दूषित पानी की निकासी की व्यवस्था की गुहार लगाई है, ताकि परेशानी से निजात मिल सके।

बता दें कि उटावड गांव की आबादी 20 हजार के करीब है। बड़ा गांव होने के नाते गांव में समस्याओं का अंबार लगा हुआ है। गांव की सफाई व्यवस्था का बुरा हाल है। गांव के पूर्वी साइड में बसे बंज मोहल्ले का तो सबसे बुरा हाल देखने को मिला। मोहल्ले के मुख्य रास्ते में कई माह से जल भराव की समस्या बनी हुई है। घरों का दूषित पानी रास्ते में खड़ा है। हालांकि गांव के स्थानीय लोगों ने कई बार दूषित पानी की निकासी व्यवस्था भी की, लेकिन पूर्ण रूप से कामयाबी नहीं मिल पाई। ग्रामीणों के अनुसार रात हो या दिन यहां से निकलना किसी जंग से कम नहीं। मालूका मार्ग पर नालियों का निर्माण लोक निर्माण विभाग की तरफ से किया गया था ताकि सड़क व रास्ते के पानी की निकासी हो सके, लेकिन ये नालियां वर्षों से अटीं हुई है। नतीजतन, पूरे गांव का पानी मुख्य रास्ते में जमा होने से स्थानीय नागरिकों का जीना दूभर हो गया है। कई बार ग्रामीणों ने पंचायत व खंड विकास विभाग को समस्या से अवगत कराया, लेकिन नतीजा सिफर रहा है। इसलिए इस मोहल्ले के लोग प्रशासनिक उपेक्षा से आहत दिखाई दिए।

----- बंज मोहल्ले के दूषित पानी से आसपास के सैकड़ों घर प्रभावित हो रहे हैं। कई बार शिकायत भी की, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई।

-हाकम अली, निवासी बंज मोहल्ला उटावड ---

यह रास्ता गांव में जाने के लिए प्रमुख रास्ता है, जहां पर कई माह से दूषित पानी घरों के सामने भरा हुआ है। लेकिन इसकी निकासी का कोई इंतजाम नहीं है। -राशिद, निवासी बंज मोहल्ला उटावड

--- सरपंच बनने पर ग्रामीण नेता अपने एरिया की तरफ ध्यान देते हैं। हमारी इस समस्या के लिए कोई कदम नहीं उठाया गया। प्रशासन ध्यान दें।

-वाकिफ, निवासी बंज मोहल्ला उटावड ----

पंचायत विभाग के पास बंज मोहल्ले की कोई शिकायत नहीं आई है। फिर भी अगर वहां पर दूषित पानी की दिक्कत है तो विभाग की तरफ से इसे दुरुस्त करने का पूरा प्रयास होगा। -अतर सिंह, समाज शिक्षा एवं पंचायत अधिकारी, हथीन

Edited By: Jagran