जागरण संवाददाता, पलवल : गांव सुलतानपुर के मध्यम वर्ग से संबधित एक युवक ने ईमानदारी की मिसाल कायम की है। गांव निवासी अरूण ने पैसों व कागजातों से भरा बैग, उसके मालिक को फोन कर वापिस कर दिया।

ओल्ड फरीदाबाद की बसेलवा कॉलोनी निवासी वीरेंद्र रविवार को मोटरसाईकिल पर सवार होकर पलवल के रास्ते अलीगढ़ जा रहा था। अलीगढ़ रोड पर यमुना पुल के समीप उसकी मोटरसाइकिल में बंधा बैग कहीं गिर गया। वीरेंद्र ने हामिदपुर से आगे पंहुचकर देखा तो उसे बैग न होने का पता चला। इसी बीच गांव सुलतानपुर निवासी भूपन हवलदार का बेटा अरूण अलीगढ रोड से गुजर रहा था। अरूण को सड़क पर बैग दिखाई दिया और उसने वह बैग उठा लिया। अरूण ने बैग खोलकर देखा तो उसमें करीब 13 हजार रुपये व जरूरी दस्तावेज मिले। अरूण ने इसकी सूचना गांव के सरपंच किरण ¨सह को दी।

सरपंच किरण ¨सह के अनुसार कागजातों की जांच की तो वीरेंद्र का फोन नंबर मिल गया। उन्होंने वीरेंद्र को फोन कर बताया कि उनका बैग गांव सुलतानपुर में है और वह अपना बैग ले जा सकते हैं। वीरेंद्र ने फोन पर अपने बेटे विकास को इसकी सूचना दी। सोमवार को विकास अपने दो साथियों के साथ गांव सुलतानपुर पंहुचा जहां सरपंच किरण सिह, अरुण के पिता भूपन हवलदार व अरूण ने बैग को वीरेंद्र के बेटे विकास को सौंप दिया।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस