संवाद सहयोगी तावडू : शहर में दीपावली के मौके पर मिठाई तो कई तरह की मिलेंगी पर गुणवत्ता की गारंटी नहीं। वजह यह है कि यहां पर सिथेटिक तरीके से तैयार खोया और दूध तथा पनीर की भरमार है। इसको लेकर जिला प्रशासन की ओर से कार्रवाई नहीं की जा रही है। ऐसे में लोगों को अपने स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए मिठाई खरीदते वक्त सही दुकान का चयन करना पड़ेगा। कई हलवाईयों ने नाली के किनारे ही दुकान सजा ली है। मिठाई तैयार करने वाले बर्तनों में मक्खी और मच्छर बैठे नजर आते हैं। सफाई का बिलकुल ध्यान नहीं रखा जा रहा है। जागरूक लोगों ने ऐसे दुकानदारों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है।

नगरवासी रजत, पवन, मोहित, विजय, नसीम और तरुण आदि ने बताया कि शहर में दीपावली पर नकली मिठाइयों की मंडी तैयार की जा रही है। इसमें नकली खोया सप्लाई करने वाले एजेंट भी शामिल हैं। शहर में ज्यादातर मिठाइयों की दुकानें मुख्य रोड के साथ बनी हुई हैं। मिठाई बनाने का गोदाम भी दुकानों के आसपास ही है। जहां पर नालियां हैं उनके ऊपर ही बैठकर यह मिठाइयां तैयार की जा रही हैं। शहरवासियों ने जिला प्रशासन से मांग की है कि एक विशेष अभियान चलाकर गंदगी के वातावरण में मिठाई बनाने वाले ऐसे हलवाइयों व मिलावटखोरों के खिलाफ कारवाई की जाए। साथ ही उन्हें उचित दिशा निर्देश भी दिए जाए।

जिला खाद्य सुरक्षा अधिकारी श्याम सिंह ने बताया कि दीपावली पर्व से पहले मिठाइयों में मिलावट की आशंका को देखते हुए सैंपल लेने का अभियान जारी है। उन्होंने मिठाई विक्रेता से मिठाई तैयार के दौरान साफ सफाई का विशेष ध्यान रखने का आग्रह किया है।

Edited By: Jagran