जागरण संवाददाता, नूंह : मच्छर के काटने से डेंगू, चिकनगुनिया और मलेरिया जैसी घातक बीमारियां होती हैं। मच्छरों से फैलने वाली बीमारियों के प्रति लोगों का जागरूक होना जरूरी है। इसके लिए अपने आसपास पानी एकत्र न होने दें। उक्त बातें सीएमओ डा. सुरेंद्र यादव ने कही।

उन्होंने कहा कि मलेरिया फीमेल एनोफेलीज मच्छर के काटने से होता है। इस बीमारी से पीड़ित व्यक्ति में बुखार, सिरदर्द, बदनदर्द, कमजोरी, चक्कर आना जैसे लक्षण दिखाई देते हैं। ऐसे में अपने आसपास साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें। उन्होंने कहा कि मच्छरों से होने वाली डेंगू दूसरी गंभीर बीमारी है। पीड़ित व्यक्ति में सिरदर्द, रैशेज, मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द, ठंड लगना, कमजोरी, चक्कर आने जैसे लक्षण दिखाई देते है। डेंगू से पीड़ित व्यक्ति को ज्यादा से ज्यादा लिक्विड डाइट लेनी चाहिए। इसके अलावा डाक्टर से संपर्क करना चाहिए। उन्होंने कहा कि एडिस मच्छर के काटने से चिकनगुनिया होता है। इस बीमारी के लक्षण डेंगू से मिलते-जुलते होते हैं। यह मच्छर ज्यादातर दिन के समय काटते है। सिरदर्द, आंखों में दर्द, नींद न आना, कमजोरी, शरीर पर लाल चकत्ते बनना और जोड़ों में तेज दर्द इस बीमारी के लक्षण है।

उन्होंने जिलावासियों से आग्रह किया कि मलेरिया, डेंगू व चिकनगुनिया से बचाव के लिए पानी के बर्तन, टंकी, घड़ों आदि को ढककर रखें और सप्ताह में एक बार कूलर, फूलदान, फ्रिज की ट्रे, पशु व पक्षियों के बर्तन व ड्रमों को खाली करके सुखाएं और फिर उनमें पानी डाले। शरीर को पूरी तरह से ढकने वाले कपड़े पहनें। ठहरे पानी में लारवा नाशक दवा डाले। उन्होंने कहा कि लोगों को स्वयं यह कदम उठाना होगा तभी वे डेंगू, मलेरिया बीमारी से बचेंगे। सप्ताह में एक ड्राई डे भी मनाएं।

सिविल सर्जन डा. सुरेन्द्र यादव ने बताया कि जिला में प्रति दिन फोगिग का कार्य जारी है व मलेरिया विभाग के कर्मचारी लोगों को डेंगू, मलेरिया के बारे में जानकारी भी दे रहे हैं। जिला अस्पताल मांडीखेड़ा, शहीद हसन खां कालेज नल्हड़ में डेंगू की मुफ्त जांच की जाती है। डा. सुरेन्द्र यादव ने बताया कि मच्छर जनित बीमारियों की जानकारी, सुझाव, शिकायत व बचाव के लिए अपने जिले के 9254333102 पर फोन करके संपर्क कर सकते है।

Edited By: Jagran