संवाद सहयोगी, फिरोजपुर झिरका : मंगलवार को फिरोजपुर झिरका व आसपास के गांवों में जोरदार बारिश हुई। झमाझम बरसे बादलों ने शहर के चारों तरफ जलभराव की समस्या को खड़ा कर दिया। एक ओर जहां बारिश से बाजरा और प्याज की फसल में गलाव पड़ गया है, जिससे किसानों को भारी नुकसान हुआ है। वहीं बाजरे की पकी और प्याज की अधपकी फसल पर बरसे पानी पानी ने किसानों के माथे पर चिता की लकीरें खींच दी हैं।

बता दें कि दिल्ली-एनसीआर इलाके में पिछले कई दिनों से बारिश का सिलसिला बना हुआ है। बारिश से जहां मौसम खुशगवार है वहीं इसने किसानों को मुश्किल में डाल दिया है। दरअसल सितंबर माह में अकसर देखने को मिलता है कि बारिश कम ही होती है, लेकिन इस बार रिकार्ड स्तर पर जारी बारिश ने किसानों की चिता बढ़ा दी हैं। क्षेत्रीय किसान मौज खां, इस्सर खां, लियाकत खान, उसमान, उमर मोहम्मद आदि ने बताया कि बारिश से यदि सबसे अधिक ज्यादा किसी फसल को नुकसान हुआ है तो वो प्याज की फसल है। दूसरी तरफ खेतों में पकी खड़ी बाजरे की फसल को भी इससे काफी नुकसान हुआ है। बारिश के कारण बाजरे की पकी बालें टूटकर गिरने लगी है। बाजरे की बाल से दाना झड़ने और टूटने से किसानों की लागत पूरी हो जाए यही गनीमत रहेगी।

चारों तरफ हो गया जलभराव

बारिश के बाद शहर के कई इलाकों में जलभराव की विकट समस्या खड़ी हो गई। शहर में सबसे अधिक परेशानी महावीर मार्ग पर देखी गई। यहां दुकानों में बारिश का पानी घुस गया। इसके अलावा सोमनाथ मार्ग, सर्विस रोड, बीवां रोड, दाल मील वाला रास्ता, इन्द्रा कालोनी, मदापुर रोड, गैस एजेंसी रोड, पुराना डाकघर रोड, लाल कुआ चौक, चौपड़ा बाजार, लाल गेट रोड, नगर पालिका कार्यालय रोड सहित वार्ड नंबर एक स्थित ढोंढ कलां के कई रास्तों में भारी जलभराव और कीचड जमा हो गया है, जिससे लोगों का निकलना भारी हो गया।

Edited By: Jagran