Move to Jagran APP

Haryana News: अवैध निर्माण की भनक लगते ही प्रशासन ने की कार्रवाई, पुलिस और महिलाओं के बीच झड़प, सुरक्षाकर्मी तैनात

रेवाड़ी रोड पर खाटू श्याम मंदिर के समीप एक प्राइवेट संस्था द्वारा करीब दो एकड़ भूमि पर तालाब के सुंदरीकरण का कार्य चल रहा है। जबकि स्थानीय लोग भी इस भूमि पर लंबे समय से चौपाल निर्माण की मांग करते आ रहे हैं। पिछले दिनों भी यहां के लोगों ने अवैध कब्जा करते हुए चौपाल निर्माण का कार्य शुरू कर दिया। जिसको प्रशासन ने रोक दिया।

By Sonia Kumari Edited By: Sonu Suman Sat, 11 May 2024 09:00 PM (IST)
बिना अनुमति के अवैध निर्माण पर प्रशासन ने की कार्रवाई।

संवाद सहयोगी, नूंह। नगर के रेवाड़ी रोड खाटू श्याम मंदिर के समीप करीब दो एकड़ भूमि पर तालाब जीर्णोद्धार और सुंदरीकरण का कार्य चल रहा है। शनिवार की सुबह करीब सौ से अधिक स्थानीय लोगों ने बिना प्रशासन की अनुमति से जबरन चौपाल बनाने के नाम पर अवैध निर्माण शुरू कर दिया।

जब प्रशासन को इसकी भनक लगी तो एसडीएम संजीव कुमार ने पालिका अभियंता मनीष सहरावत को ड्यूटी मजिस्ट्रेट नियुक्त कर कार्रवाई के निर्देश दिए। इस दौरान भारी पुलिस बल भी मौजूद रहा। स्थानीय महिलाओं की प्रशासन और पुलिस के साथ झड़प भी हुई जिसे महिला पुलिसकर्मियों ने मोर्चा संभालते हुए स्थिति को नियंत्रण में किया।

लंबे समय से चौपाल निर्माण की मांग

बता दें कि रेवाड़ी रोड पर खाटू श्याम मंदिर के समीप एक प्राइवेट संस्था द्वारा करीब दो एकड़ भूमि पर तालाब के सुंदरीकरण का कार्य चल रहा है। जबकि स्थानीय लोग भी इस भूमि पर लंबे समय से चौपाल निर्माण की मांग करते आ रहे हैं। पिछले दिनों भी यहां के लोगों ने अवैध कब्जा करते हुए चौपाल निर्माण का कार्य शुरू कर दिया। जिसको प्रशासन ने रोक दिया।

अब करीब एक महीने बाद तालाब भूमि पर चौपाल निर्माण का कार्य शुरू करा दिया गया। जैसे ही प्रशासन को इसकी सूचना मिली तो तुरंत पालिका अभियंता मनीष सहरावत को ड्यूटी मजिस्ट्रेट नियुक्त कर कार्रवाई के निर्देश दिए। जबकि स्थानीय लोगों ने प्रशासन पर जातिगत भेदभाव के आरोप लगाए हैं।

विभिन्न भूमि पर कई मंदिर निर्माण की मांग

लोगों का कहना है कि जब इस भूमि पर करीब 1500 वर्ग गज में खाटू श्याम मंदिर, एक हजार वर्ग गज भूमि पर रामलीला क्लब, 1100 वर्ग गज भूमि पर विश्वकर्मा मंदिर और करीब 900 वर्ग गज भूमि पर माता मंदिर का निर्माण किया हुआ है तो वह तो मात्र 300 वर्ग गज भूमि ही मांग रहे हैं। जिस पर सामूहिक चौपाल बनाना चाहते हैं। लोगों ने कहा कि गौतम नगर और शिवनगर दो कालोनी में करीब 700 से 800 परिवार रह रहे हैं, जो अधिकतर पिछड़े वर्ग से संबंध रखते हैं। ऐसे में उन्हें भी उनके नजदीक ही चौपाल बनाने की अनुमति दी जाए।

इस भूमि पर तालाब के सुंदरीकरण का कार्य चल रहा है। किसी तरह का कोई कब्जा नहीं किया जा रहा और न ही तालाब की भूमि पर किसी तरह का निर्माण किया जा सकता है। कई बार लोगों को इस बारे में समझाया गया लेकिन लोग अपनी जिद्द पर खड़े हुए हैं जो कानून संभव नहीं है। - सुमित कुमार, सचिव, नगर पालिका, तावड़ू

ये भी पढ़ें- Nuh Accident: घासेड़ा गांव के पास ऑटो ने टैंकर में पीछे से मारी टक्कर, 9 स्कूली बच्चे घायल