जागरण संवाददाता, नूंह:

जिले में बाजरे की फसल के अनाजमंडी में आने से पूर्व कृषि विभाग द्वारा हर खंड में बाजरे की फसल का सर्वे किया जा रहा है। जिससे यह अंदाजा लगाने की कोशिश की जा रही है, कि जिले में बाजरे का रकबा कितना है। हालांकि किसानों की सुविधा के लिए सरकार किसान ई-पोर्टल के माध्यम से किसानों के बाजरे की फसल से संबंधित जानकारी ले रही है। जिसका किसान आगामी 15 सितंबर तक किसान ई-पोर्टल के माध्यम से ऑनलाइन अपलोड करा सकते हैं।

हालांकि किसान ई-पोर्टल का किसानों को तकनीकी कारणों से लाभ नहीं मिल रहा है। जिससे कृषि विभाग द्वारा किसानों की बाजरे की फसल का सर्वे किया जा रहा है। जिससे खरीद के समय किसानों को सरकार पर्याप्त सुविधा मुहैया करा सके। इस वर्ष सरकार ने बाजरे का न्यूतम मूल्य 1950 रुपये तय किया गया है। जिससे ध्यान में रखते हुए सरकार द्वारा किसान ई-पोर्टल पर किसानों की फसल संबंधी जानकारी ली जा रही है। गांवों में बने अटल सेवा केंद्रों पर संपर्क कर किसान ई-पोर्टल पर जाकर अपने रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं। सरकार किसानों के बाजरे की फसल के एक-एक दाने को खरीदेगी। इसलिए किसान ई-पोर्टल के माध्यम से किसानों की फसल का रजिस्ट्रेशन किया जा रहा है। किसान ई-पोर्टल में तकनीकी कमी के चलते कुछ दिक्कत आ रही है। जिससे गांवों में जाकर कृषि विभाग टीम बाजरे की फसल का सर्वे कर रही है। इस बार किसानों के बाजरे को 1950 रुपये ¨क्वटल की दर से खरीदा जाएगा। विभाग की टीम आगामी दो दिनों में सर्वे के कार्य को पूरा कर लेगी।

डा. अजीत ¨सह, एसडीओ कृषि विभाग।

Posted By: Jagran