जागरण संवाददाता, पिनगवां:

गांव तिगांव में डिपो होल्डर की धांधली का मामला सामने आया है। ग्रामीणों का आरोप है कि राजस्थान के शब्बीर नामक व्यक्ति ने फर्जी दस्तावेजों से डिपो का लाइसेंस बनवा रखा है। जिन्होंने गांव के सैकड़ों लोगों को दो महीने से राशन नहीं दिया है। इसके कारण उन्हें भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

ग्रामीणों का कहना है कि राशन न मिलने वाले लोगों में अधिकतर बीपीएल परिवार शामिल हैं। आरोप है कि फर्जी दस्तावेजों से हासिल डिपो लाइसेंस की वह सीएम ¨वडो, उपायुक्त व खाद्य एंव आपूर्ति विभाग को भी लिखित रूप में शिकायत कर चुके हैं, लेकिन अभी तक न तो उन्हें राशन ही दिलवाया गया है और ना ही फर्जी डिपो होल्डर के खिलाफ कोई कार्रवाई की गई है। इसके कारण ग्रामीणों में नाराजगी बनी हुई है। ग्रामीण कमरुद्दीन, अहमद, संतरा, मकसूदन, फाता, नसरीन, कायम, जानू, बसरुद्दीन, मुस्तकीम, सफी, चटोली, रोशनी, सलीमन, साहून, आलम, नबाब, मिहरु नंबरदार, फुरकान, जमालुद्दीन, हक्कू सहित अन्य ग्रामीणों का कहना है कि उनके गांव में राजस्थान की तहसील किशनगढ़ के गांव तीतरका से शब्बीर नामक व्यक्ति राशन बांटता है। इसने डिपो का फर्जी तरीके से लाइसेंस बनवा रखा है। इससे गांव के अधिकतर लोग राशन नहीं लेना चाहते हैं। ग्रामीणों ने उच्चाधिकारियों से मांग की है कि जो लोग इस डिपो होल्डर से राशन नहीं लेना चाहते उनके राशन कार्ड दूसरे डिपो के साथ जोड़े जाएं, ताकि उन्हें हर महीने का राशन समय पर मिल सके। सीएम ¨वडो की शिकायत हमें मिल चुकी है। इसके आधार पर डिपो होल्डर की जांच के लिए कमेटी गठित कर दी है। जांच के दौरान जो भी कमी सामने आएगी, उसके हिसाब से कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

-शीमा शर्मा, डीएफएससी।

Posted By: Jagran