जागरण संवाददाता, नारनौल :

पुलिस ने नगर पालिका महेंद्रगढ़ के पूर्व जेई कृष्ण कुमार, सचिव राजाराम व एमई चमनलाल पर सांसद निधि कोटे के बजट के फर्जी बिल बना साढ़े सात लाख रुपये का गबन करने का मामला दर्ज किया है। अदालत में नपा की पूर्व चेयरपर्सन रीना गर्ग ने एक इस्तगासा दायर की थी। अदालत ने तीनों पर विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज करने के आदेश दिए थे। आदेश मिलने के बाद बुधवार शाम को पुलिस ने तीनों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 120 बी, 409, 419, 420, 465, 467, 468, 471 व 511 के तहत मामला दर्ज किया हैं। तीनों आरोपितों की गिरफ्तारी की अटकलें तेज हो गई हैं। तीनों पर साजबाज करने, फर्जी कुटेशन सहित फर्जी बिल बना रुपये हड़पने के आरोप लगे हैं।

जानकारी के अनुसार नपा के एमई चमनलाल ने 22 अक्टूबर को पालिका अभियंता का कार्यभार संभाला था। वहीं राजाराम ने इसी साल तीन जनवरी को पालिका सचिव का कार्यभार संभाला। इन दोनों ने नगर पालिका में कार्यरत जेई कृष्ण कुमार से घनिष्ठ संबंध बना लिए तथा पूर्व में भी इनके संबंध अच्छे थे। इन तीनों ने षड्यंत्र रचकर सांसद धर्मवीर सिंह द्वारा अपने सांसद कोटे से वाल्मीकि सभा व गोशाला को दी गई क्रमश दो लाख 51 हजार रुपये तथा पांच लाख रुपये राशि के फर्जी बिल व कुटेशन तैयार कर ली। बिल व कुटेशनों पर गत वर्ष 24 अगस्त की तिथि में रिपोर्ट करा हस्ताक्षर करा लिए। जबकि चमनलाल ने पिछले साल 22 अक्टूबर व सचिव राजाराम ने इसी साल तीन जनवरी को कार्यभार संभाला था। गोशाला के लिए इन्होंने 21 अगस्त को रिपोर्ट तैयार कर नपा से धोखाधड़ी की। मामले की जानकारी चेयरपर्सन रीना गर्ग को हुई तो उन्होंने अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई के लिए कोर्ट का दरवाजा खटखटाया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस