जागरण संवाददाता, नारनौल: हरियाणा सरकार तथा शिक्षा विभाग जेबीटी शिक्षकों का आनलाइन तबादला करने में पिछले लगभग दो महीनों से बार-बार नया शेड्यूल जारी कर आप्शन मांगे जा रहे हैं, जिसके कारण शिक्षक मानसिक तनाव का शिकार हो रहे हैं। हरियाणा प्राइमरी टीचर एसोसिएशन के महेंद्रगढ़ जिला प्रधान कृष्ण कुमार नंगली ने कहा कि 2016 के बाद से हरियाणा प्राइमरी टीचर एसोसिएशन के प्रधान हरिओम राठी के नेतृत्व में प्रदेश कार्यकारिणी द्वारा कई बार तबादलों की मांग रखने के बावजूद हरियाणा सरकार और शिक्षा विभाग की आनलाइन तबादला नीति अभी तक असफल रही है। इससे प्रदेश के जेबीटी शिक्षकों में रोष व्याप्त है।

महेंद्रगढ़ जिला प्रधान ने बताया कि बार-बार आप्शन मांगने पर साइबर कैफे कम से कम एक बार के लिए 200 रुपये वसूल रहे हैं, जिसका सीधा फायदा निजी कंपनियों को हो रहा है। दूसरी ओर विभागीय साइट के धीमी गति से चलने के कारण अधिकांश शिक्षकों को साइबर कैफे पर कतार लगाकर ठंड में देर रात तक इंतजार करना पड़ा है। यदि सरकार आनलाइन तबादला नीति में सक्षम ही नहीं और बार-बार नाकामयाब हो रही है तो इस नीति को रद्द कर मैनुअल तबादले किए जाएं। हरियाणा प्राइमरी टीचर एसोसिएशन जिला महेंद्रगढ़ बार-बार शेड्यूल बदलने और आप्शन मांगने का पुरजोर विरोध करती है।

गौरतलब है कि बीते दिन निदेशालय द्वारा एक नया शेड्यूल एक बार फिर जारी किया गया है। इसके अंतर्गत 24 से 26 जनवरी तक शिक्षकों द्वारा स्वेच्छा से अपनी भागीदारी को दर्ज करवाना है। 27 जनवरी को डाटा अपलोड किए जाएंगे तथा 28 जनवरी से तीन फरवरी तक स्कूल आप्शंस मांगे जाएंगे।

Edited By: Jagran