संवाद सहयोगी, नांगल चौधरी: कालेज स्तरीय शिक्षा ग्रहण करने वाली छात्राओं के लिए निश्शुल्क रोडवेज सुविधा का रास्ता साफ हो गया है। छात्राओं को घर से कालेज तक आवागमन सुविधा उपलब्ध करवाने के लिए जिले भर में करीब चार दर्जन रूट मैप तैयार कर हेड आफिस भेजा है। रूट मैप की खास बात यह है कि जिन ग्रामीण रूटों पर दशकों से रोडवेज बस की सुविधा नहीं थी, उन पर भी अब रोडवेज बसें दौड़ेंगी। जैसे ही कालेज खुलेंगे, रोडवेज विभाग छात्राओं के लिए अपनी बस सेवा शुरू कर देगा। बाक्स :

जिलेभर में 47 रूट तय

रोडवेज विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक सरकार को विभाग द्वारा कालेज स्तर की छात्राओं के लिए निश्शुल्क रोडवेज बस सुविधा उपलब्ध करवाने का पत्र मिलते ही इस संदर्भ में पंचकूला में मीटिग हुई। जिसके बाद रोडवेज विभाग ने जिलेभर की छात्राओं को लाभ पहुंचाने के लिए 47 रूट मैप तैयार किए हैं, जो हेड आफिस भेज दिए गए। जैसे ही छात्राओं की रूट वाइज सूची विभाग को मिलेगी, बस सेवा उपलब्ध करवा दी जाएगी। छात्राओं को किसी भी प्रकार की असुविधा न हो, इसके लिए हर बस पर रूट नंबर अंकित किया जाएगा, जिससे कालेज छुट्टी होने पर संबंधित रूट की छात्रा बस पर रूट नंबर देखकर ही सवार हो सके। बाक्स :

दशकों बाद ग्रामीण रूटों पर दिखाई देगी रोडवेज बसें

छात्राओं को कालेज तक परिवहन सुविधा मुहैया करवाने के लिए विभाग ने ग्रामीण क्षेत्र के भी रूट शामिल किए हैं, जिससे नांगल चौधरी के गोठड़ी, दोखेरा, गोलवा व छापड़ा, बीबीपुर और कमानिया रूटों पर छात्राओं के लिए रोडवेज की बसें दौड़ेंगी। इन रूटों पर कोई रोडवेज बस सुविधा नहीं होने से उक्त रूटों से कालेज पहुंचने वाली छात्राओं में असमंजस की स्थिति बनी हुई थी। लेकिन, विभाग के रूट मैप में उपरोक्त रूटों को शामिल करने पर उनमें आशा की किरण जगी है। इससे इन रूटों से कालेज पहुंचने वाली छात्राओं को जहां सरकार की योजना का लाभ मिल सकेगा, वहीं दशकों बाद रोडवेज बसें दौड़ती दिखाई देगी।

बाक्स :

कम छात्रा होने पर रूट होगा डायवर्ट

छात्राओं को लाभ पंहुचाने के साथ विभाग को यात्री सेवा का ध्यान रखना है। इससे बसों को भी व्यवस्थित करना होगा ताकि यात्री रूट प्रभावित न हो। इसके लिए रोडवेज विभाग एक रूट पर 70 छात्राएं होने पर बड़ी बस उपलब्ध करवाएगा। छात्राएं पंद्रह से बीस होने पर मिनी बस की सुविधा देगा। अगर किसी रूट पर इससे भी कम छात्रा होती है, तो विभाग रूट डायवर्ट करेगा। बाक्स :

छात्रा ही कर सकेगी सफर

विभाग की मानें तो जिन ग्रामीण रूटों पर बसें चलेंगी, उनमें सिर्फ कालेज छात्राएं ही सफर कर सकेंगी। इसके अतिरिक्त अन्य को सफर करने की अनुमति नहीं होगी। इससे बस में यात्रा करते समय छात्राओं को किसी भी प्रकार की परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा। कालेज के समय के अनुसार विभाग द्वारा बसें भी एक घंटे पहले उपलब्ध होंगी ताकि छात्राओं को किसी तरह की लेटलतीफी का सामना ना करना पड़े।

बाक्स :

वर्जन : कालेज छात्राओं को निश्शुल्क बस सेवा उपलब्ध करवाने के लिए जिलेभर के 47 रूट मैप तैयार करके हेड आफिस भेज दिया गया है। कालेज द्वारा रूट वाइज लड़कियों की संख्या उपलब्ध करवाने के बाद रोडवेज बस सुनिश्चित कर दी जाएगी। कोरोना के बाद कालेज खुलते ही छात्राओं के लिए सभी रूटों पर रोडवेज बसें शुरू कर दी जाएंगी।

- सतीश कुमार, सीआइ, रोडवेज विभाग नारनौल

Edited By: Jagran