जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र : निर्जला एकादशी पर जिले भर में छबील लगाकर राहगीरों को मीठा पानी पिलाया गया। धार्मिक एवं सामाजिक संगठनों ने जगह-जगह स्टाल लगाए और मीठे पानी के अलावा दूसरे खाद्य पदार्थ भी वितरित किए। लोगों ने तरबूज, खरबूजा, पानी से भरा मटका ब्राह्माणों को दान दिया। वहीं महिलाओं ने निर्जला व्रत रखा।

निर्जला एकादशी पर गीता स्वामी ज्ञानानंद के सानिध्य में गीता ज्ञान संस्थानम के मुख्य द्वार पर जल सेवा का आयोजन किया गया। जल सेवा का शुभारंभ गीता मनीषी ने राहगीरों व साधु संतों को शरबत व जलजीरा पिलाकर किया। गीता मनीषी स्वामी ज्ञानानंद महाराज ने कहा कि निर्जला एकादशी के व्रत से वर्ष भर की 24 एकादशियों के व्रत का फल मिलता है। जो व्यक्ति पूरे साल भर एकादशी का व्रत नहीं रख सकता वह केवल निर्जला एकादशी का व्रत रखने से ही साल भर की एकादशियों का फल प्राप्त कर लेता है। इस मौके पर श्री कृष्ण कृपा गोशाला प्रधान हंसराज सिगला, प्रेस प्रवक्ता रामपाल शर्मा, दीपक आहुजा, मंगतराम मेहता, रामकृष्ण, विजय बवेजा, मा. विजय कुमार मौजूद रहे। लायलपुर बस्ती में लायलपुर युवा क्लब के सदस्यों ने निर्जला एकादशी पर छबीलें लगाई। युवाओं ने पूरा दिन उत्साह के साथ आने जाने वाले लोगों को रोक कर मीठा जल पिलाया। ऐसे में लोगों को राहत मिली और बुजुर्गों ने युवाओं को एकादशी सेवा के लिए आशीर्वाद दिया।

दान पुण्य का विशेष महत्व

साधु मंडी शिव मंदिर के पंडित अजय कुमार का कहना है कि ज्येष्ठ महीने की एकादशी होने की वजह से छाता, शीतल पेय पदार्थ, पंखे दान स्वरूप दिए जाते हैं। इससे पितृ शांत होकर तृप्त होते हैं। निर्जला एकादशी पर दान-पुण्य का विशेष महत्व होता है। लायलपुर युवा क्लब के कर्ण खुंगर, गौतम वधवा, शिवा वधवा, मनोहर अरोड़ा ने सहयोग किया।

सांसद व विधायक ने गाय को खिलाया चारा

जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र : जय बजरंगबली गोशाला में निर्जला एकादशी पर धार्मिक कार्यक्रम किया गया। सांसद नायब सिंह सैनी व विधायक सुभाष सुधा ने कार्यक्रम में शिरकत की और निर्जला एकादशी पर छबील का श्रीगणेश किया। इस दौरान सांसद नायब सिंह सैनी और विधायक सुभाष सुधा ने गायों को हरा चारा और फल खिलाए। इसके बाद सांसद और विधायक ने गांव भिवानी खेड़ा में भी जलसेवा का शुभारंभ किया।

सांसद ने कहा कि निर्जला एकादशी पर लोगों की जल सेवा करने के लिए जगह-जगह छबील लगाई जाती है। विधायक सुभाष सुधा ने कहा कि कोरोना महामारी की विकट परिस्थितियों में समाजसेवी संस्थाओं का विशेष योगदान है। उन्होंने कहा कि लोगों को गाय की सेवा करनी चाहिए।

Edited By: Jagran