जागरण संवददाता, कुरुक्षेत्र :

श्रीदेवीकूप मां भद्रकाली शक्तिपीठ में आयोजित सेल्फ डिफेंस ट्रेनिग कैंप के तीसरे दिन प्रतिभागियों को बाल खींचने पर बचाव के तरीके सिखाए गए। ट्रेनर ने बताया कि महिलाओं पर जब भी कोई असामाजिक तत्व हमला करता है तो वह सबसे पहले बाल खींचता है। क्योंकि बालों के पकड़ में आने से किसी को भी बेबस किया जा सकता है। ऐसे में महिलाएं छोटी सी ट्रिक से न केवल अपने आपको बचा सकती हैं बल्कि सामने वाले को चारो खाने चित्त भी कर सकती हैं। इस दौरान मंदिर के पीठाध्यक्ष सतपाल शर्मा ने भी आत्म रक्षा के गुर सीखने वाली बच्चियों और महिलाओं को आत्मरक्षा के लिए जागरूक किया।

श्रीकृष्ण मार्शल आ‌र्ट्स संस्थान के अध्यक्ष राजेश शर्मा ने बताया की हेयर ग्रैब डिफेंस तकनीक सीखने के बाद यदि हमलावर द्वारा बालों पर हमला किया जाता है तो महिलाएं अपना बचाव भी बखूबी कर सकती हैं और हमलावर को मुंह तोड़ जवाब भी दे सकती हैं। हमलावर द्वारा भिन्न भिन्न स्थितियों में बाल खींचने पर बचाव की अलग अलग विधियों का प्रशिक्षण दिया गया। इसके साथ-साथ हमलावर द्वारा पीछे से, दाईं या बाईं ओर से गला दबाने की स्थिति में नैक ग्रैब डिफेंस की विभिन्न तकनीकों का गहन प्रशिक्षण दिया गया। पीठाध्यक्ष सतपाल शर्मा ने बताया की सभी प्रशिक्षु बहुत ही लगन के साथ प्रशिक्षण ले रहे हैं। प्रशिक्षु सुनैना, शालू, रिकू और अनु ने कहा की यह प्रशिक्षण बहुत ही प्रभावशाली है इससे हमारा आत्मविश्वास बहुत बढ़ा है। हर महिला को सेल्फ डिफेंस ट्रेनिग अनिवार्य रूप से लेनी चाहिए।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस