जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र : धर्मनगरी को स्वच्छ बनाने की दिशा में काम तेज कर दिया है। नगर परिषद थानेसर ने लोगों व सफाईकर्मियों में नजदीकी लाने के लिए प्रतियोगिता शुरू की है। इसमें सफाई दरोगा या सफाईकर्मी का नाम बताने पर इनाम दिया जाएगा। नप ने इसके लिए कपड़े के बैग देने का फैसला लिया है। नप के इस कदम से दो फायदे होंगे। एक लोगों व कर्मचारियों में नजदीकियां बनेंगी और दूसरा थानेसर शहर पालीथिन मुक्त होगा।

जिला निकाय आयुक्त भारत भूषण गोगिया ने इस विषय को अधिकारियों की बैठक में सांझा किया। उन्होंने कहा कि कुरुक्षेत्र के शहरी क्षेत्र को किसी भी कीमत पर स्वच्छ और सुंदर बनाया जाएगा।

मोबाइल नंबर तक याद कराने की तैयारी

इसके लिए प्रयास शुरू कर दिए गए है। इन प्रयासों को अमलीजामा पहनाने के लिए शहर के प्रत्येक नागरिक का सहयोग जरूरी है। यह सहयोग उस समय मिलेगा जब प्रत्येक व्यक्ति को अपने एरिया के सफाई दरोगा और सफाई कर्मचारी का फोन नंबर याद होगा। इस मुहिम के साथ लोगों को जोड़ने के लिए नगरपरिषद थानेसर की तरफ से एक पहल भी शुरू की गई है। इस पहल के साथ जो भी व्यक्ति अपने क्षेत्र के सफाई दरोगा और सफाई कर्मचारी का नाम बताएगा उसे कपड़े का थैला देकर सम्मानित किया जाएगा। इस पहल के तहत यह प्रयास किया जा रहा है कि शहर के प्रत्येक नागरिक को सफाई दरोगा और सफाई कर्मचारी का नाम और फोन नंबर पता हो। अगर किसी भी व्यक्ति को अपने क्षेत्र में गंदगी नजर आती है तो वह अपने क्षेत्र के दरोगा और कर्मचारी से संपर्क कर सकता है। दरोगा और कर्मचारी लापरवाही बरतेगा तो सख्त कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

सेल्फ हेल्प ग्रुप को मिलेगी मजबूती

नगरपरिषद ने कपड़े के बैग बनाने के लिए सेल्फ हेल्प ग्रुप की महिलाओं को आर्डर दिया है। इससे लोगों को पालीथिन का प्रयोग न करने के प्रति जागरूक किया जाएगा और सेल्फ हेल्प ग्रुप की महिलाओं को भी काम मिलेगा। इस पहल से एक साथ कई योजनाओं को अमलीजामा पहनाया जा सकेगा। उन्होंने शहर के लोगों से इसमें शामिल होने की अपील भी की है।

Edited By: Jagran