संवाद सहयोगी, लाडवा: मंगलवार सुबह लाडवा के सरकारी अस्पताल में उस समय हंगामा खड़ा हो गया, जब सरकारी अस्पताल की एक नर्स ने एक महिला मरीज को धक्का दे दिया। उसके साथ व उसके पति के साथ गाली-गलौज भी किया गया। हंगामा इतना बढ़ गया पुलिस ने आकर मामले को शांत करवाया। अस्पताल में आई गांव बन निवासी पति गुरदेव सिंह के साथ आई मीना रानी ने बताया कि वह उसने दवाई लेने के बाद उसने रुपये देकर पर्ची बनवाई। उसके बाद वह अस्पताल की स्टॉफ नर्स के रूम में अपना बीपी चैक करवाने के लिए गई तो वहां पर मौजूद स्टॉफ नर्स ने उनके साथ न केवल गाली-गलौज की, बल्कि उन्हें धक्का देकर फर्श पर गिराने का भी प्रयास किया। गनीमत रही कि उसके पति ने उसे गिरने से संभाला। मीना ने बताया कि उन्हें कभी चार नंबर कमरे व तो कभी 13 नंबर कमरे में जाने को कहा। किसी भी रूम में बीपी चैक करने की मशीन नहीं थी और न ही स्टॉफ नर्स मिली तो उसे दूसरे कमरे में यह कहकर भेज दिया कि मेरे पास बीपी चैक करने की मशीन नहीं है। इसको लेकर सरकारी अस्पताल में हंगामा हो गया। मौके पर पहुंची पुलिस ने सारे मामले को शांत करवाया। गुरदेव सिंह अपनी पत्नी को बिना इलाज करवाए ही सरकारी अस्पताल से इलाज करवाने के लिए निजी अस्पताल लेकर चला गया।

वहीं सरकारी अस्पताल की एसएमओ डॉ.अंजलि वैद्य ने कहा कि मंगलवार सुबह को अस्पताल में मरीजों की भीड़ थी। जिसके कारण हो सकता है कि मरीज को किसी परेशानी का सामना करना पड़ा हो। उन्होंने कहा कि अस्पताल के अंदर चार बीपी चैक करने की मशीनें उपलब्ध हैं हो सकता है कि मरीजों की संख्या ज्यादा होने के कारण मशीनें किन्हीं अन्य कमरों में हो सकती है। एसएमओ ने अस्पताल की स्टॉफ नर्स व मरीज को अपने पास बुलाकर दोनों पक्षों की बात सुनी।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप