जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र: मुख्यमंत्री सुशासन सहयोगी प्रोजेक्ट निदेशक डॉ.राकेश गुप्ता ने कहा कि प्रदेश में सक्षम मेगा परिणामों में अच्छे परिणाम सामने आए है। इसमें 68 ब्लॉकों को सक्षम घोषित किया गया है, जिनमें कुरुक्षेत्र के थानेसर, पिहोवा, शाहबाद का नाम भी शामिल हैं। लाडवा ब्लॉक सक्षम होने के बिल्कुल नजदीक पहुंच गया है। प्रोजेक्ट निदेशक डॉ.राकेश गुप्ता ने चंडीगढ से वीडियो कान्फ्रेंस के माध्यम से शिक्षा विभाग के अधिकारियों को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि सभी स्कूलों में पहली से आठवीं कक्षा तक के विद्यार्थियों के लिए पुस्तकें भेजने का कार्य एक मार्च से शुरू कर दिया जाएगा। इसके लिए एक अधिकारी को नोडल अधिकारी नियुक्त करना होगा। इसके लिए पुस्तक कंपनियों के साथ अनुबंध कर लिया गया है और प्रूफ रीडिग का कार्य भी लगभग पूरा हो चुका है। इसलिए एक मार्च से कंपनी की तरफ से पुस्तकें सीधे स्कूलों में भेजने का काम शुरू कर दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि शिक्षा विभाग के सभी अधिकारियों और कर्मचारियों की सर्विस बुक को ऑनलाइन किया जा रहा है। इस योजना के पूरे होने से रिकार्ड चोरी नहीं हो पाएगा और कार्य प्रणाली में पारदर्शिता आएगी। किसी भी कर्मचारी का डाटा तुरंत चैक किया जा सकेगा।

प्रोजेक्ट निदेशक ने कहा कि राज्य सरकार की तरफ से नेशनल स्किल क्वालिफिकेशन फ्रेम योजना के तहत (एनएसक्यूएफ) प्रदेश के एक हजार स्कूलों के लिए 200 करोड़ रुपये का बजट तय किया गया। इस बजट के तहत कुरुक्षेत्र के 51 स्कूलों में विद्यार्थियों के प्रशिक्षण, कार्यालय के खर्च और रॉ मटीरियल व गेस्ट लेक्चर के लिए 40 लाख 80 हजार रुपये का बजट भेजा गया। इस स्कीम के तहत 9वीं से 12वीं कक्षा तक 51 स्कूलों में 4 हजार 134 विद्यार्थियों को 13 विषयों में वोकेशनल एजूकेशन दी जा रही है। इसके लिए 114 शिक्षकों की भी नियुक्ति की गई है।