- कुवि में पीएचडी की तैयारी कर रहे हिसार के गांव कोथकला निवासी छात्र दिनेश के लापता होने का मामला

- जिस कार में छात्र को ले गए थे आरोपित पुलिस ने लिया कब्जे में

- कार की सीन आफ क्राइम विशेषज्ञों से कराई जांच

जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र : कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय से एमफिल कर पीएचडी की तैयारी कर रहे हिसार के गांव कोथ कला का छात्रा दिनेश कुमार के लापता होने के मामले में पुलिस आरोपित छात्रों का पोलीग्राफी टेस्ट कराएगी। इसे लेकर पुलिस ने मंगलवार को अदालत से अनुमति ली है। प्रमाणित आदेश की प्रति को लेकर पुलिस मधुबन स्थित एफएसएल से समय लेगी। वहीं पुलिस ने छात्र को ले जाने में प्रयोग की कार को कब्जे में लिया है। पुलिस ने सीन आफ क्राइम विशेषज्ञों से कार की गहनता से जांच भी कराई है।

परिजनों का आरोप था कि पैसे की देनदारी के चलते दिनेश का अपहरण किया गया है। उन्होंने छात्र की हत्या की भी आशंका जताई थी।जिसके चलते पुलिस मामले में गहनता से जांच में जुटी है।

गौरतलब है कि हिसार के गांव कोथ कला निवासी निवासी दिनेश कुमार चार मार्च को रात पौने आठ बजे थर्ड गेट के समीप किराए के कमरे से गया था। उसने कुछ युवकों से पैसे लेने थे। दिनेश के ताऊ जगमंद्र ने बताया था कि दिनेश की डेढ़ साल पहले सुरेश के साथ दोस्ती हुई थी। उसने दिनेश को कहा था कि वह युवकों को नौकरी लगवा सकता था। दिनेश ने चार युवकों नौकरी लगाने के लिए 36 लाख रुपये दिए थे। अब सुरेश व उसके साथी पवन व जो¨गद्र पैसे नहीं दे रहे थे। चार मार्च को रात पौने आठ बजे फिर से दिनेश के पास आरोपित युवकों का फोन आया था और उसे अकेले बुलाया था। जगमंद्र का आरोप है कि पैसे की देनदारी के चलते उसका अपहरण किया गया है। उन्होंने हत्या की भी आशंका जताई है।

पोलीग्राफी टेस्ट से साफ होगा मामला

पुलिस का कहना है कि परिजन जिन छात्रों पर आरोप लगा रहे है, उन छात्रों ने पुलिस पूछताछ में बताया था कि दिनेश को लेकर ढांड की तरफ गए थे। ढांड रोड पर पेट्रोल पंप के पास पुलिस पीसीआर खड़ी थी, जिस कारण वे वापस आ गए थे और किरमच की तरफ से शहर में वापस आए थे। दिनेश नरवाना ब्रांच नहर पर ही उतर गया था। उसने कहा था कि यहां उसके दोस्त मौजूद हैं व उसके साथ वापस चला जाएगा। पूछताछ में युवकों ने बताया था कि सन्निहित सरोवर के पास से अपने दोस्तों के साथ चंडीगढ़ चले गए थे और अगले दिन वहां से वापस लौटे थे। पुलिस का कहना है कि युवकों की बात में कितनी सच्चाई है इसके बारे में पोलीग्राफी टेस्ट से ही स्थिति स्पष्ट हो पाएगी। इसीलिए अदालत से अनुमति ली गई है।

कार की कराई सीन आफ क्राइम टीम से जांच

आरोपित जिस कार में दिनेश को ले गए थे उसे कब्जे में लिया है। पुलिस ने सीन आफ क्राइम विशेषज्ञों से कार की जांच कराई है, ताकि पता चल सके कि कार में किसी प्रकार की अपराधिक वारदात को तो अंजाम नहीं दिया गया। पुलिस की जांच जारी है।

मुख्य आरोपित सुरेश के परिजनों ने भी कराई है गुमशुदगी की रिपोर्ट

पुलिस के अनुसार मुख्य आरोपित सुरेश के परिजनों ने भी उसके गुमशुदा होने की रिपोर्ट दर्ज कराई हुई है। शिकायत में कहा गया है कि वह कई दिनों से लापता है और उसका मोबाइल भी बंद है।

मुख्य आरोपित है अभी भी फरार

थाना केयूके प्रभारी राजेश कुमार ने बताया कि पुलिस ने मामले में आरोपित पवन व जो¨गद्र के ब्यान दर्ज किए हैं। इस मामले में मुख्य आरोपित सुरेश अभी भी फरार है। उसका मोबाइल फोन भी बंद है। उसके मिलने पर मामले का खुलासा हो सकता है। पुलिस उसकी तलाश में जुटी है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप