जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र : देश का भविष्य नन्हें मुन्ने बच्चों की आंखों की रोशनी पौष्टिक भोजन का सेवन कम करने, मोबाइल का प्रयोग अधिक करने के कारण कम होती जा रही है। लायंस क्लब की ओर से धर्मनगरी के सरकारी और निजी स्कूलों में पढ़ाई करने वाले बच्चों की आंखों की जांच कर रही नेत्र जांच मशीन से यह स्थिति स्पष्ट हुई है। बुधवार को गुरु नानक स्कूल की जूनियर और सीनियर विग में लायंस क्लब की ओर से नेत्र जांच शिविर लगाया गया। शिविर में जूनियर विग और सीनियर विग के करीब 500 बच्चों की आंखों की जांच की गई। लायंस क्लब के प्रधान हरीश लूथरा ने बताया कि क्लब की ओर से शहर के विभिन्न स्कूलों में पढ़ रहे 30 हजार से अधिक विद्याíथयों की नेत्र जांच करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इस कड़ी में थानेसर शहर स्थित राजकीय कन्या विद्यालय में करीब 1100 छात्राओं की आंखों की जांच की गई। आज इस अभियान के दूसरे चरण में गुरु नानक स्कूल में 500 से अधिक बच्चों की नेत्र जांच की गई। क्लब के सचिव विकास गोयल और कोषाध्यक्ष प्रदीप झांब ने बताया कि इस जांच शिविर के माध्यम से यह बात स्पष्ट हुई कि आजकल के बच्चों ने पौष्टिक भोजन का सेवन कम करना, मोबाइल का अधिक प्रयोग करना, टीवी अधिक देखना जैसे मुख्य कारणों से बच्चों कि आंखें कमजोर होती जा रही है। जिसके कारण इन्हें चश्में लगाने की नौबत तक आ पहुंची है।

इस मौके पर विद्यालय की जूनियर विग की प्राचार्य ममता शर्मा, सीनियर विग के प्राचार्य मुख्तयार सिंह, क्लब के सदस्य सतपाल शर्मा, सुरिद्र सिंह छतवाल, सुरिद्र ढींगरा मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस