जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र : ब्रह्मसरोवर के पवित्र जल से आचमन, गीता पूजन और गीता यज्ञ में आहुति के साथ मंगलवार को अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव-2019 का शुभारंभ हो गया। साथ ही ब्रह्मसरोवर की फिजा श्लोकोच्चारण से गीतामयी हो गई। हरियाणा के राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य, मुख्यमंत्री मनोहर लाल, स्वामी ज्ञानानंद, उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत, हिमाचल विधानसभा के अध्यक्ष राजीव बिदल, नेपाल के उप उच्चायुक्त भारत कुमार रेगमी, जिम्बाव्बे के उच्चायुक्त लायून रियुबे ने श्रीमदभावगत गीता पर पुष्प अर्पित किए।

अतिथियों के आगमन के साथ ही पुरुषोत्तमपुरा बाग में हरियाणवी परंपरागत वाद्य यंत्रों की गूंज शुरू हो गई। कार्यक्रमों से पहले सभी मेहमानों ने कुरुक्षेत्र विकास बोर्ड के सदस्यों और अधिकारियों के साथ एक ग्रुप स्मृति चित्र भी कराया। इन मेहमानों के आगमन के साथ अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव 2019 का शुभारंभ हो गया। महोत्सव 8 दिसंबर तक चलेगा।

--------

आकर्षण का केंद्र रहेंगे

महोत्सव में 18 हजार विद्यार्थियों के साथ वैश्विक गीता पाठ, वाटर लेजर शो उत्तर क्षेत्र सांस्कृतिक कला केंद्र पटियाला द्वारा विभिन्न राज्यों के कलाकारों के सांस्कृतिक कार्यक्रम, अंतरराष्ट्रीय गीता सेमिनार, ब्रह्मसरोवर की महाआरती, गीता शोभा यात्रा आकर्षण का केंद्र रहेंगे।

ये भी रहे मौजूद

प्रदेश के शिक्षा मंत्री कंवर पाल गुर्जर, खेल एवं युवा कार्यक्रम मंत्री संदीप सिंह, मुख्यमंत्री के राजनीतिक सचिव एवं पूर्व मंत्री कृष्ण कुमार बेदी, थानेसर के विधायक सुभाष सुधा, इंद्री के विधायक रामकुमार कश्यप, यमुनानगर के विधायक धनश्याम दास अरोड़ा, शाहाबाद के विधायक रामकरण काला, डीसी डॉ. एसएस फुलिया, केडीबी के मानद सचिव मदन मोहन छाबड़ा, सीईओ केडीबी गगनदीप सिंह मौजूद रहे।

---

प्रदर्शनियों का किया अवलोकन

अतिथियों ने राज्यस्तरीय प्रदर्शनी, हरियाणा सरस्वती हेरिटेज बोर्ड द्वारा लगाई गई प्रदर्शनी और उत्तराखंड पवेलियन का उद्घाटन किया। पवेलियन का अवलोकन भी किया।

गीता के प्रचार को विश्व के हर व्यक्ति तक पहुंचाना जरूरी : मनोहर

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि गीता में विश्व की सभी समस्याओं का समाधान है। चार साल से अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव में पहुंचने वाली लोगों की भीड़ इस बात को भली प्रकार से जानती है। अब इस संदेश को विश्व के हर घर और प्रत्येक नागरिक तक पहुंचाना जरूरी है। विदेश में गीता महोत्सव आयोजित कर लोगों को इसके साथ जोड़ा जा रहा है। वह कुवि के ओडिटोरियम हॉल में गीता का शाश्वत दर्शन एवं सार्वभौमिक कल्याण विषय पर अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी की अध्यक्षता करते हुए बोल रहे थे। इस तीन दिवसीय अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी में नौ देशों से गीता मर्मज्ञ और देश भर के अलग-अलग राज्यों से 15 विद्धान हिस्सा ले रहे हैं। इस संगोष्ठी में गीता पर उच्चतम स्तर का वैचारिक चितन होगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस