जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र : हरियाणा एनवायरमेंटल सोसाइटी पिछले सात सालों से शहर भर में कंकरीट के जगलों को हरा-भरा करने में जुटी है। सोसाइटी की ओर से शहर भर में उचित जगहों की तलाश कर अभी तक ही तीन हजार के करीब पौधे लगाए गए हैं। इतना ही नहीं सोसाइटी की ओर से निरंतर पौधों की देखभाल भी की जा रही है। इसी उचित देखभाल का परिणाम है कि इनमें से 99 प्रतिशत के करीब पौधे सही सलामत हैं। कई जगहों पर सात साल पहले रोपित किए गए पौधे अब पेड़ बन गए हैं और तपती दोपहरी में लोगों को छाया देने के साथ-साथ पर्यावरण के प्रहरी बन प्रदूषण को नियंत्रण करने में जुटे हुए हैं।

एचइएस ने सात साल पहले कुरुक्षेत्र में अपने अभियान का शुभारंभ कर सबसे पहले पार्किग क्षेत्रों में पौधारोपण अभियान शुरू किया। इस अभियान के साथ पर्यावरण प्रेमियों को जोड़ा गया। एचइएस के प्रयास विदेशों में बैठे भारतीयों की भी अभियान से जोड़ा गया। इस अभियान के तहत ब्रह्मसरोवर के चारों ओर पार्किग और डिवाइडर पर पौधे रोपित किए गए। इस काम में एचइएस के साथ राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान कुरुक्षेत्र ने भी सहयोग किया।

धरती का श्रृंगार हैं पेड़-पौधे

एचइएस के संस्थापक डा. सोहन लाल सैनी ने बताया कि हरे भरे पेड़-पौधे धरती का श्रृंगार हैं। पर्यावरण के बढ़ते प्रदूषण को कम करने के लिए उन्होंने एचइएस का गठन कर पौधारोपण शुरू किया था। एचइएस की ओर से यमुनानगर में अभी तक ढाई लाख पौधे और कुरुक्षेत्र में करीब तीन हजार पौधे लगाए गए है। इन पौधों की निरंतर देखभाल की जा रही है। कुरुक्षेत्र में एचइएस के स्टेट कन्वीनर राहुल भारती और को-आर्डिनेटर प्रोफेसर एमिरेट्स डा. हरि सिंह नई-नई जगह तलाश रहे हैं।

Edited By: Jagran