जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र : नगर परिषद थानेसर की चार माह बाद सोमवार को हुई हाउस की बैठक में खूब हंगामा हुआ। बैठक की शुरुआत होती ही नप की ओर से कूड़ा उठाने के लिए ट्रैक्टर ट्राली खरीदने का प्रस्ताव रखा गया तो विपक्षी पार्षद उखड़ गए और पिछली बैठक पर हुए प्रस्ताव पास पर कार्रवाई की मांग की। इसके बाद हर घर में डस्टबीन रखने के प्रस्ताव पर वार्ड नंबर नौ की पार्षद सुदेश चौधरी ने विरोध कर दिया। इसी मांग को लेकर नगर परिषद अध्यक्ष उमा सुधा और सुदेश चौधरी सीधे-सीधे एक-दूसरे पर हमलावर हो गए। हंगामा बढ़ता देख विधायक सुभाष सुधा ने सभी प्रस्तावों पर पास करने के लिए पार्षदों से सहमति मांगी तो आधे से अधिक पार्षदों ने हाथ खड़े कर सभी प्रस्तावों पर सहमति जता दी। मात्र 10 मिनट में ही नगर परिषद की बैठक संपन्न हो गई। पांच पार्षदों ने इसे लेकर असंतोष जताया। बैठक में पास किया कि अगली बार से महिला पार्षद के पति या प्रतिनिधि बैठक में शामिल नहीं होंगे, केवल पार्षद ही आएंगे।

नप अध्यक्ष व विधायक करते हैं मनमानी

फोटो नं.- 19 वार्ड नंबर तीन से पार्षद अपनी पत्नी प्रवीण रानी की जगह मी¨टग में पहुंचे

पूर्व पार्षद नरेंद्र शर्मा ने कहा कि नप अध्यक्ष व विधायक मनमानी करते हैं। जो एजेंडे पिछली बैठक में पास हुए थे, उन पर पहले चर्चा होनी चाहिए। इन एजेंडों पर कभी भी चर्चा नहीं कराई जाती। उन्होंने बैठक को ढकोसला करार देते हुए कहा कि इसके लिए जबावदेही होनी चाहिए। बॉक्स

वन मैन शो नप हाउस की बैठक

फोटो नं.- 20 वार्ड नंबर 23 के पार्षद कृष्ण कुमार का कहना है कि हाउस की बैठक में उनकी बात को सुना नहीं जाता। वे चुन कर आए हैं नोमिनेटेड नहीं है। एक पहली बार नहीं हुआ है, हर बार बैठक में ऐसा ही होता है। नप अध्यक्ष व उनके पति विधायक सुभाष सुधा का वन मैन शो है। बैठक में विकास के मुद्दों चर्चा होनी चाहिए। बॉक्स

डस्टबिन खरीदने को लेकर होनी चाहिए थी चर्चा

फोटो नं.- 18 वार्ड नौ से पार्षद सुदेश चौधरी का कहना है कि पिछले वर्ष भी डस्टबिन खरीदे गए थे। उन डस्टबिन का क्या हुआ, इसके बारे में किसी को नहीं पता है। ऐसे में अब दोबारा से सूखे व गीले कूड़े के निपटान के लिए डस्टबिन खरीदने का प्रस्ताव रखा गया है। जब उन्होंने इस पर चर्चा कराने की बात कही तो नगर परिषद अध्यक्ष ने उनके साथ बदतमीजी की। हाउस की बैठक में उनके साथ अभद्र व्यवहार करने के पीछे यहीं कारण है कि वे लगातार वार्ड के विकास के मुद्दे को उठा रही हैं। वे उनकी आवाज को दबाना चाहते हैं। सरकार महिलाओं की सुरक्षा के दावे करती है, मगर उनके विधायक महिलाओं से अभद्र व्यवहार कर रहे हैं। बॉक्स

स्वयं तैयार करते हैं मुद्दे, स्वयं कर लेते हैं पास

फोटो नं.- 21 वार्ड 27 से पार्षद संदीप टेका का कहना है कि नगर परिषद अध्यक्ष व विधायक स्वयं मुद्दे तैयार करते हैं और स्वयं ही उन्हें बैठक में पास कर लेते हैं। किसी भी बैठक में मुद्दों पर नहीं होती। केवल लूट मचाने के लिए एजेंडे पास होते हैं। बॉक्स

खरीदे जाएंगे 80 हजार डस्टबिन नगर परिषद की बैठक में 80 हजार डस्टबिन खरीदने का प्रस्ताव पारित हुए। सूखे व गीले कूड़े के निपटान के लिए ये डस्टबिन प्रत्येक घर में वितरण किए जाएंगे। सूखे कूड़े के हरा व गीले कूड़े के लिए लाल रंग का डस्टबिन होगा। यह डस्टबिन 125 रुपये का एक जोड़ा होगा। इसके लिए नप 50 लाख रुपये खर्च करेगा। इसके साथ ही कूड़ा उठाने के लिए चार आयशर ट्रैक्टर खरीदे जाएंगे। इसके लिए 15 लाख रुपये खर्च होंगे। बॉक्स

बैठक में ये प्रस्ताव हुए पास

- नगर परिषद थानेसर में पिछली हुई बैठक की कार्रवाई की पुष्टि बारे।

- शहर के विभिन्न वार्डों में कराए जाने वाले विकास कार्यों बारे में विचार-विमर्श।

- स्वछछता सर्वेक्षण 2019 बारे विचार-विमर्श।

- नगर परिषद द्वारा जैम पोर्टल-टेंडर के माध्यम से चार आयशर ट्रैक्टर-ट्राली खरीद करने बारे में विचार-विमर्श।

- सूखे व गीले कूड़े के निपटान के लिए डस्टबीन खरीद करने पर विचार-विमर्श

- डं¨पग प्वाइंट मुकीमपुरा में सूखे व गीले कूड़े को अलग-अलग रखने हेतु व्यवस्था करने पर विचार-विमर्श।

- शहर के सभी मुख्य पार्कों में कूड़े से खाद बनाने हेतू कंपोज पिट तैयार करने बारे विचार-विमर्श।

- नप द्वारा रखे गए टिप्पर ड्राइवरों की समय अवधि आगामी एक वर्ष के लिए बढ़ाने बारे में विचार-विमर्श।

- सेक्टर 3,5,7 व 13 तथा शहीद उधम ¨सह सामुदायिक केंद्र में स्वीपर कम चौकीदार रखने पर विचार-विमर्श।

- रैन बसेरों में साफ-सफाई व चौकीदार रखने पर विचार-विमर्श।

- सेक्टर सात में शादी व अन्य खुशी के अवसर पर किन्नरों को 2100 रुपये या 3100 रुपये राशि निश्चित करने बारे।

- रेलवे व पिपली रोड पर स्ट्रीट लाइट खंबों के लिए पैनल।

- नप अध्यक्ष की अनुमति से अन्य मुद्दे। बॉक्स

अमृत योजना में होगा काम

फोटो नं.- 23 विधायक सुभाष सुधा ने कहा कि पार्षद प्रतिनिधि नरेंद्र शर्मा ने निकासी का जो मुद्दा उठाया है, वह अमृत योजना के तहत हल करवाया जा रहा है। उनकी समस्या जायज है और इसे लेकर वे खुद दौरा करेंगे। सेक्टर-03 से लेकर यह काम अलग-अलग टुकड़ों में पूरा होगा।

Posted By: Jagran