जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र : हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद के मानद महासचिव प्रवीण अत्री ने कहा कि बच्चे राष्ट्र के निर्माता है। इसलिए बच्चों को बाल्यकाल से ही शिक्षा के साथ-साथ अच्छे संस्कार देना बहुत जरूरी है। बाल कल्याण परिषद की ओर से संचालित स्कूलों में यह कार्य बखूबी किया जा रहा है। बच्चों के सर्वांगीण विकास के लिए परिषद वचनबद्ध है, जहां पर भी किसी भी जरूरत होगी, परिषद उसे प्राथमिकता के तौर पूरा करेगी। ये बात मानद महासचिव प्रवीण अत्री सोमवार को स्थानीय पंचायत भवन में हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद के तत्वाधान में जिला बाल कल्याण परिषद की ओर से आयोजित बाल महोत्सव-2021 के अंतर्गत अंबाला मंडल स्तरीय प्रतियोगिताओं के उद्घाटन समारोह पर बतौर मुख्यातिथि बोल रहे थे।

उन्होंने कहा कि कुरुक्षेत्र एक विश्वविख्यात धर्मनगरी है, यहां पर सांस्कृतिक कार्यक्रम होते रहते है, यहां प्रतियोगिताओं का आयोजन होना अपने आप में ही एक मिसाल है। उन्होंने कहा कि प्रतियोगिताओं में भागीदारी जरूर करनी चाहिए, इससे छुपी हुई प्रतिभा सामने आती है। जल्द ही राज्य स्तर का कार्यक्रम के आयोजन के बारे में जानकारी दे दी जाएगी। अंबाला मंडल के डिवीजनल बाल कल्याण अधिकारी मनीषा खन्ना ने बताया कि यह मंडल स्तरीय प्रतियोगिताएं 25 से 28 अक्टूबर तक चलेंगी, इसमें 5 इवेंट होंगे और 17 ग्रुप भाग ले रहे है। उन्होंने कहा कि 25 को ग्रुप डांस, 26 को सोलो डांस, 27 को कविता ग्रुप गायन व क्वीज और 28 को एकल गायन प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाएगा। जिला बाल कल्याण अधिकारी सर्बजीत सिंह सीबिया ने कहा कि जिला स्तर पर 12 अक्टूबर से कार्यक्रम लगातार जारी है और मंडल स्तरीय प्रतियोगिताओं में जो प्रतिभागी प्रथम आएगा, वह राज्य स्तरीय प्रतियोगिताओं में भाग लेगा।

निर्णायक मंडल में ये शामिल

इस मौके पर निर्णायक मंडल की भूमिका अंशुल सभ्रवाल, सुरभी कठवाल, विशाल शर्मा, दिलावर कौशिक, सुरेश शर्मा व रिकू दुग्गल ने निभाई। इस मौके पर करनाल मंडल के डिवीजनल बाल कल्याण अधिकारी प्रदीप मलिक, जिला रेडक्रास सचिव रणधीर सिंह, पूजा कश्यप व सुमन शर्मा मौजूद रही।

Edited By: Jagran