जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र : कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के मानव संसाधन विकास केंद्र द्वारा आयोजित ओरिएंटेशन कोर्स के प्रथम सत्र में भू-भौतिकी विभागाध्यक्ष प्रो. भगवान सिह ने भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम विषय पर अपना व्याख्यान दिया। उन्होंने भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान की तात्कालिक क्षमताओं का परिचय देते हुए कहा कि इस समय भारत कृत्रिम उपग्रह प्रक्षेपण के क्षेत्र में सर्वोत्तम कार्य कर रहा है। 2018 तक भारत द्वारा 28 देशों के 329 कृत्रिम उपग्रह सफलतापूर्वक इनकी कक्षा में स्थापित किए गए हैं। अपने द्वितीय वक्तव्य में उन्होंने भूमि एवं जल स्त्रोतों तथा अन्य क्षेत्रों के विकास में कृत्रिम उपग्रहों की महत्ता को स्पष्ट किया। उन्होंने विषय संबंधी पूरक प्रश्रों का भी समाधान किया।

दूसरे सत्र में विश्वविद्यालय के अधिष्ठाता महाविद्यालय प्रो. आरके शर्मा ने अपने वक्तव्य में एक उत्तम अध्यापक के व्यक्तित्व पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि एक उत्तम समाज के निर्माण के लिए सदैव जागरूक रहना शिक्षक का सर्वोच्च दायित्व है। अपने द्वितीय व्याख्यान में प्रो. शर्मा ने शोधपत्र बनाने की विधि पर विस्तृत रूप से प्रकाश डाला।

कार्यक्रम के पूर्वाह्न सत्र का संयोजन एसएनआरएल महाविद्यालय लौहार माजरा की वाणिज्य विषय की प्राध्यापिका अमरजीत कौर ने तथा अपराह्न सत्र का संयोजन राजकीय महाविद्यालय भेरियां, पिहोवा की गणित की प्राध्यापिका सरिता दहिया ने किया। इस मौके पर कार्यक्रम में शिक्षकों सहित विभिन्न महाविद्यालयों एवं विश्वविद्यालयों के 53 प्राध्यापक प्रतिभागी मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस