संवाद सूत्र, जलमाना: कस्बा जलमाना के गांव चोरकारसा व जुंडला के गांव जानी की सड़क पर बने अनगिनत गडढे से आए दिन राहगीर चोटिल हो रहे हैं। लेकिन जिम्मेदार अधिकारियों ने मुंह फेर लिया है, जिससे आमजन परेशान हैं।

हल्का असंध के गांव चोरकारसा व जानी की सड़क में बने असंख्य गहरे गड्ढों से राहगीरों के सड़क हादसों में शिकार होने व आमजन की परेशानियों को भी नजरअंदाज नही किया जा सकता। सड़क को सड़क समझ कर सरपट भागने की कोशिश जान लेवा हो सकती है। क्योंकि गड्ढे में सड़क है, या फिर सड़क में गड्ढे यह पता भी नहीं चलेगा। चोरकारसा स्थित चमकौर एकेडमी के संचालक कोच प्रवीन चमकौर व नरेश चमकौर का कहना है कि जलमाना से चोरकारसा आने वाले रास्ते पर गड्ढों में सड़क को तलाश करना पड़ता है। बरसात में तो सड़क ही ढूंढनी पड़ती है। ऐसे में इन गड्ढों वाली सड़कों की हालत ऐसी बन चुकी है कि सावधानी हटी तो दुर्घटना घटी। उन्होंने बताया कि बार-बार संघर्ष करने के बाद एक बार सड़क पर बने गड्ढों में मिट्टी व पत्थर के टुकड़े भरे थे, लेकिन एक बरसात आई और गड्ढों से मिट्टी बहाकर ले गई और सड़क से गुजरने वाले वाहनों ने पत्थर के टुकड़ों को भी बाहर निकाल दिया। अब सड़क जगह-जगह से टूट कर जानलेवा गड्ढों में तब्दील हो गई।

जानी गांव की सड़क का बुरा हाल

पूर्व सरपंच सतपाल जानी ने बताया कि जुंडला से जानी जाने वाले एकमात्र रास्ते का हाल बद से बदतर है। सड़क पर इतने गड्ढे है कि सड़क गड्ढों में तब्दील हो गई है। जिन पर सरकार व विभाग की दया²ष्टि कब होगी कुछ कहा नही जा सकता। सतपाल जानी ने कहा की सड़क की हालत खस्ता होने से हर रोज लोग हादसों का शिकार हो रहे हैं।

Edited By: Jagran