संवाद सूत्र, जलमाना : गांव उपलाना में बुधवार की बीती रात को गांव के चारों ओर सैकड़ों एकड़ में तूड़ी बनाने के बाद बचे फसल अवशेषों में आग लग गई। जब आग लगी तभी तेज आंधी चली, जिससे आग गांव के चारों ओर फैल गई। पूरे गांव में कोहराम मच गया और ग्रामीणों द्वारा आग पर काबू पाने के भरसक प्रयास भी सफल नहीं हो पाए तो दमकल विभाग के कर्मियों ने मौके पर पहुंच आग पर काबू पाया। लेकिन तब तक तूड़ी के दर्जनों कूप, उपले व 12 मवेशी भी झुलस गए।

बताया जा रहा है कि किसानों ने सीजन के अंत मे मवेशियों के लिए साल भर का सूखा चारा जमा किया था, जिसके लिए कई किसानों ने कूप लगाए थे तो किसी ने बरामदों में तूड़ी जमा की हुई थी, जो आग लगने से जल कर राख हो गई। आग की चपेट में आने से एक गाय, तीन भैंस और एक भैंस का बच्चा बुरी तरह से झुलस गए। गांव वासी सतीश राणा, रामभूल राणा,कृष्ण शर्मा, रामेश्वर आदि ने बताया कि गांव में आग से भारी नुकसान हुआ है, जिसमें तूड़ी से भरे छह बरामदे, 10 तूड़ी के बड़े कूप और 15 उपले जलकर राख हो गए।

किसानों ने बताया कि खेतों में पीछे से ही फसल के अवशेषों में आग लगी हुई थी। आग लगने से कृष्ण शर्मा की 40 ट्राली,एक गाय, चार मवेशी सहित दो एकड़ में खरबूजे की फसल सहित मकान की छत खिड़की व दरवाजे और घर का सामान जल गया। लखमीचन्द के बरामदे की छत सहित 5 ट्राली तूड़ी, रामेश्वर की 10 ट्राली तूड़ी, हरिचन्द का तूड़ी से भरा बरामदा, कुलदीप की चार ट्राली, रामकरण की 10 ट्राली, हरपाल की 5 ट्राली तूड़़ी, पवन, व काला राम के 2 कूप और राहुल राणा के 3 कूप व रमेश का एक कूप और ट्यूबवेल के ड्राइवरी, महिपाल की 5 ट्राली तूड़ी, रामलाल कि 5 ट्राली,रोशन लाल की 5 ट्राली व और रामकुमार की 7 ट्राली तूड़ी और 3 उपले सहित सड़क के किनारे खड़े ग्रामीणों के दर्जनों उपले जल कर राख हो गए। वहीं ग्रामीणों में रोष है कि इतनी बड़ी घटना के बावजूद कोई प्रशासनिक अधिकारी मौके पर नहीं पहुंचा।

------------------

आग ने शेखुपुरा में बरपाया कहर

वहीं शेखुपुरा गांव के किसान गुरलाल सिंह के 12 मवेशी सहित 20 ट्राली तूड़ी जलकर राख हो गई। गुरलाल सिंह ने बताया कि हादसे में 12 भैंस झुलस गईं, जो गर्भवती अवस्था में थी। वहीं उपलाना व शेखुपुरा के लोगों ने सरकार से मुआवजा दिए जाने की अपील की है।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021