संवाद सहयोगी, घरौंडा : पुलिस अकादमी मधुबन के निदेशक व एडीजी आलोक कुमार राय ने बताया कि पॉवर अपने साथ बड़ी जिम्मेदारियां भी लेकर आती है और जिम्मेदारी के साथ आता है फर्ज। फर्ज को हमेशा याद रखना चाहिए। मधुबन रंगशाला में महिला रैक्रूट बैच 86 व प्रॉबेशनर एसआइ बैच 16 के 1463 प्रशिक्षणार्थियों को संबोधित करते राय ने कहा कि ड्यूटी को याद रखने से हमें अपने कर्तव्य पथ पर सही तरीके से आगे बढ़ने में मदद मिलती है। इससे पूर्व अकादमी के ट्रेनिग एडवाइजर व पूर्व आइजी सतप्रकाश रंगा ने अकादमी के निदेशक महोदय के निर्देश पर प्रशिक्षणार्थियों को अनुशासन, प्रशिक्षण संबंधी दिशा-निर्देश की जानकारी प्रशिक्षणार्थियों को दी।

पुलिस अधीक्षक कृष्ण मुरारी ने मीडिया में प्रकाशित इग्लैंड की महिला का संदर्भ देते हुए प्रशिक्षणार्थियों को बताया कि कानून और नियम तोड़े बिना भी जीवन में अच्छी तरह से आगे बढ़ा जा सकता है। उन्होंने कहा कि जीवन के किसी भी क्षेत्र में नियमों का पालन व्यक्ति की गरिमा और सहजता को बनाए रखता है। उप पुलिस अधीक्षक लक्ष्मी देवी ने कहा कि पुलिसकर्मी अपने लिए कम और समाज के लिए अधिक जीता है। उन्होंने प्रशिक्षणार्थियों से अपील की वे अपने जीवन को समाज के हित में समर्पित करते हुए सौभाग्यशाली बनें।

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran