जागरण संवाददाता, करनाल : हरियाणा शारीरिक शिक्षक संघर्ष समिति के बैनर तले बर्खास्त पीटीआइ 120 दिनों से जिला सचिवालय के सामने धरने पर डटे हैं। बीती छह अक्टूबर को प्रतिनिधिमंडल की सीएम के साथ चंडीगढ़ में वार्ता हुई थी, जिसमें सीएम ने आश्वासन दिया कि सभी बर्खास्त पीटीआइ को जल्द ही समायोजित कर दिया जाएगा। इससे बर्खास्त पीटीआइ में नौकरी बहाली की उम्मीद जगी है। सोमवार को क्रमिक अनशन पर बैठने वालों में अनिरूद्ध, भुवन कुमार, गुलाब सिंह, राजेश कुमार व स्नेहलता शामिल रहे।

बर्खास्त पीटीआइ का हौसला बढ़ाने पहुंचे कर्मचारी नेताओं ने कहा कि संघर्ष की राह पर अटल रहे। उन्होंने सरकार से मांग की कि जल्द से जल्द नौकरी बहाल की जाए। प्रदेश के 1983 पीटीआइ के साथ अन्याय हो रहा है। यह शिक्षक वर्ग का अपमान है। जिला प्रधान संदीप बलड़ी ने कहा कि नौकरी बहाल होने तक धरना जारी रखा जाएगा। सीएम से जो आश्वासन मिला है उससे नौकरी वापस मिलने की उम्मीद जगी है। इस अवसर पर जिला संगठन सचिव रमेश शर्मा, सुभाष शर्मा, अध्यापक संघ के जिला प्रधान अनिल सैनी, रोशन लाल गुप्ता, अशोक पंचाल, सर्व कर्मचारी संघ से सुशील गुर्जर, जगमाल सिंह, एसपी त्यागी, एसपी भारद्वाज, मोहिद्र कुमार, कुलदीप राणा, सुखविदर विर्क, प्रदीप सांगवान, राम कुमार, राज कुमार, भुवन कुमार, सुरेश कुमार, दिनेश शर्मा, सुदेश रानी, रीना रानी, नीलम रानी, हिमांशु, राजेश कुमार व गुरचरण सिंह मौजूद रहे।

Edited By: Jagran