जागरण संवाददाता, करनाल : नगर पालिका कर्मचारी संघ हरियाणा के आह्वान पर करनाल इकाई ने शहर में झाडू़ उठाओ प्रदर्शन किया। राज्य सरकार की वादा खिलाफी के खिलाफ व दलित सफाई कर्मचारी विरोधी नीतियों के खिलाफ जनता के बीच में पर्चे वितरित किए। प्रदर्शनकारी कर्मचारियों की अगुवाई ईकाई प्रधान राम सिंह ने की और संचालन ईकाई सचिव राज कुमार ने किया। प्रदेश सचिव शारदा व एसकेएस के जिला सचिव इंद्रजीत चनालिया ने कहा कि राज्य की भाजपा सरकार लगातार किसान मजदूर कर्मचारी विरोधी नीतियां लागू कर रही है। इन नीतियों के कारण किसान मजदूर कर्मचारी सड़कों पर अपना विरोध प्रकट कर रहे हैं। सरकार बातचीत करने की बजाय लाठी-डंडे से उनके आंदोलन को दबाना चाहती है। आंदोलन के दबाव में 25 अप्रैल 2020 को और 17 अगस्त 2020 को शहरी स्थानीय निकाय विभाग मंत्री अनिल विज के साथ मीटिग हुई थी। मीटिग में मंत्री ने मांगों को जल्द मानते हुए इनके परिपत्र जारी करने का आश्वासन दिया था, लेकिन आज तक जायज मांगों के परिपत्र जारी नहीं किए। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों की तर्ज पर शहरी स्थानीय निकाय विभाग के कर्मचारियों को कोरोना काल में दुर्घटना होने पर 50 लाख की विशेष आर्थिक सहायता राशि देना, परिवार के सदस्य को स्थाई नौकरी देने, जोखिम पूर्ण कार्य के लिए सभी पक्के कच्चे कर्मचारियों को चार हजार रुपए हजार प्रति माह जोखिम भत्ता देने, सभी कच्चे कर्मचारियों को पक्का करने तक न्यूनतम वेतन 21 हजार लागू करने, नगर पालिका और नगर परिषद नगर निगम से छंटनी किए गए तृतीय व चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारियों को वापस ड्यूटी पर लेने, हर माह की सात तारीख से पहले सभी कर्मचारियों को वेतन देने आदि मांगों को लेकर नगरपालिका कर्मचारी संघ आंदोलनरत है। इस अवसर पर फायर ब्रिगेड कर्मचारी संघ के जिला प्रधान विजय शर्मा, सुमेर चंद, मीना, सरोज, सुनीता, उर्मिला, रोशनी, संजय बिडलान व संदीप नरवाल ने कर्मचारियों को संबोधित किया।

Edited By: Jagran