संवाद सूत्र, कुंजपुरा : जिला नागरिक अस्पताल में दाखिल गर्भवती महिला के कथित अपहरण के दर्ज मामले में कुंजपुरा व करनाल सिविल लाइन थाना पुलिस की संयुक्त टीम ने नामजद आरोपितों के घर पर छापेमारी की, लेकिन आरोपित अपने परिवार के सदस्यों समेत लापता मिले। उनके घरों के बाहर गेट पर ताले लगे हुए पाए गए। हालांकि पुलिस ने गांव से कुछ अहम जानकारी जुटाई, ताकि आरोपितों को जल्द काबू किया जा सके। इससे पूर्व पुलिस की टीम मामले की तह तक पहुंचने के लिए सीसीटीवी कैमरे की फुटेज खंगालने जिला नागरिक अस्पताल में गई, लेकिन किन्हीं कारणों से पुलिस की यह कार्रवाई पूरी नहीं हो सकी। उधर लापता महिला का अब तक सुराग न लगने से पीड़ित के स्वजनों ने आशंका जताई है कि आरोपितों द्वारा महिला के गर्भ में पल रहे बच्चे को कानूनी प्रक्रिया से बचने के लिए नुकसान व महिला की जान को खतरा हो सकता है। दूसरी ओर ग्रामीणों में महिला के एक आरोपित के साथ प्रेम प्रसंग की चर्चा भी बनी हुई है। बता दें कि लापता महिला अदालत के आदेशों के बाद गर्भपात व डीएनए टेस्ट के लिए जिला नागरिक अस्पताल में सोमवार को भर्ती की गई थी। महिला के लापता होने के बाद यह सारी प्रक्रिया अधर में लटक गई है। जिससे सुरक्षित गर्भ की दिन प्रतिदिन अवधि बढ़ने के कारण महिला की जान को भी जोखिम की आशंका बढ़ती जा रही है, क्योंकि गर्भ अब तीन माह की अवधि पार कर परिपक्वता की ओर बढ़ रहा है। इस संबंध में थाना कुंजपुरा प्रभारी मुनीष कुमार का कहना है कि महिला के साथ-साथ आरोपितों को भी जल्द ढूंढ लिया जाएगा। पुलिस की टीमें उनकी तलाश में लगी हुई हैं। मामले में इससे अधिक नहीं कहा जा सकता। लापता महिला के बरामद होने व आरोपियों से पूछताछ के बाद ही मामले की सच्चाई सामने आ सकेगी।

Edited By: Jagran