जागरण संवाददाता, करनाल : जाट महासभा ने दीनबंधु सर छोटूराम जयंती के अवसर पर उनकी प्रतिमा पर फूल मालाएं अर्पित कर उन्हें नमन किया। इससे पहले जाट भवन में सुबह हवन किया गया। प्रधान जो¨गद्र ¨सह लाठर सहित सदस्यों ने यज्ञ में आहुतियां डालकर समाज में खुशहाली की कामना की। मुख्य अतिथि प्रो. रणबीर ¨सह ने कहा कि सर छोटूराम का जन्म 24 नवंबर 1881 को हुआ था, लेकिन वह बसंत पंचमी को अपना जन्म दिवस मनाते थे, क्योंकि बसंत पंचमी पर चारों ओर बसंत के फूल खिलते हैं जिन्हें देखकर किसान इतराता है। उन्होंने कहा कि सर छोटूराम किसानों के लिए मसीहा थे। इसके बाद जाट भवन में हुई मी¨टग में महासभा की ओर से किए गए कार्यों व आय व्यय की रिपोर्ट प्रस्तुत की गई। जाट भवन के निर्माण में सहयोग करने वाले दानी सज्जनों को स्मृति चिह्न भेंटकर व शॉल ओढ़ाकर सम्मानित किया गया, इनमें पंकज पूनिया और अमरनाथ नरवाल शामिल रहे। महासभा की गतिविधियों में सक्रिय भूमिका निभाने वाले सदस्यों को भी सम्मानित किया गया। जाट महासभा के प्रधान जो¨गद्र ¨सह लाठर ने कहा कि दीनबंधु सर छोटूराम के दिखाए मार्ग पर चलकर ही हम उन्हें सच्ची श्रद्धांजलि दे सकते हैं। इस अवसर पर वरिष्ठ उपप्रधान हवा ¨सह संधू, महासचिव सुरजीत ¨सह नरवाल, उपप्रधान सुभाष नरवाल, सचिव बलवान ¨सह, उपप्रधान अजीत खटकर, कोषाध्यक्ष चरण ¨सह मलिक, रणजीत मान, गजे ¨सह कुंडू व धर्मपाल नरवाल सहित सदस्य मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप