जागरण संवाददाता, करनाल : क्षेत्रिय परिवहन प्राधिकरण विभाग की तरफ से रोड सेफ्टी को लेकर सेक्टर-33 में कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इसमें मुख्य अतिथि के रूप में एसपी गंगाराम पूनिया रहे। इस दौरान वाहन चालकों को करीब 200 रिफ्लेक्टर जैकेट, मास्क और सैनिटाइजर वितरित किए गए।

पुलिस अधीक्षक गंगाराम पूनिया ने कहा कि सड़क पर सेफ्टी बरतना हम सभी की जिम्मेदारी है। अधिकतर हादसे ओवरस्पीड की वजह से होते हैं। सामान्य और तेज गति से वाहन चलाने में सिर्फ 5 से 10 मिनट का अंतर रहता है। महज इतनी जल्दी पहुंचने के चक्कर में जिदगी दांव पर लगाए रखते हैं। शराब पीकर वाहन चलाने से भी 60 से 70 प्रतिशत हादसे होते हैं। आज हमें शपथ लेनी हैं कि यातायात नियमों का पालन करते हुए वाहनों को चलाए। इससे समाज को एक अच्छा योगदान मिलेगा।

इसके अलावा एडीसी व आरटीए सचिव वीना हुड्डा ने कहा कि सड़क दुर्घटना का दर्द हमें तब महसूस होता है जब अपना कोई दुर्घटना का शिकार हो जाता है। कहीं हादसा हो जाता है तो सबसे पहले उन लोगों को अस्पताल पहुंचाएं, जो घायल हुए हैं। ड्राइवरों को समझाया गया कि इस तरह की हेल्प करने में पुलिस पूछताछ नहीं करेगी। हाईवे ट्रैफिक ब्रांच से एसआई अशोक कुमार ने कहा कि चालान से राजस्व इकट्ठा करना पुलिस का उद्देश्य नहीं है। यह चालान इसलिए किया जाता है कि चालक यातायात नियमों का पालन करें। इससे आपकी और दूसरे की जिदगी भी सेफ रहेगी। इस अवसर पर आरटीए इंस्पेक्टर जोगिद्र ढुल, हाईवे थाना प्रभारी कंवरभान, मोटर वाहन अधिकारी जसमेर सिंह, उप निरीक्षक बलदेव सिंह, जसबीर, रामेश्वर, खेमा, प्रमोद आदि मौजूद रहे।

Edited By: Jagran