जागरण संवाददाता, करनाल : एसोसिएशन गर्वनमेंट फार्मासिस्ट ऑफ हरियाणा के तत्वावधान में फार्मासिस्टों का धरना शनिवार को छठे दिन जारी रहा। जिला प्रधान रोहित कौशिक के नेतृत्व में करनाल के सभी फार्मासिस्टों ने मेयर रेणू बाला से मुलाकात की। मेयर ने फार्मासिस्टों की ग्रेड पे 4600, डिप्टी डायरेक्टर पद भरने, नए पद सृजित करने व बेसिक योग्यता बी फार्मा करने की मांगों को जायज माना। मेयर ने मुख्यमंत्री के ओएसडी आलोक वर्मा व प्रिसिपल सेकेंडरी राजेश खुल्लर से फोन पर बातचीत कर मांगों को लागू करने की सिफारिश की। प्रधान रोहित ने कहा कि पूरे प्रदेश के फार्मासिस्ट छह अगस्त को गेट मीटिग व 18 अगस्त को मुख्यमंत्री आवास के घेराव के बाद से आंदोलनरत हैं। छह दिनों से धरने पर डटे हैं। उन्होंने कहा कि ग्रेड पे 4600 के जायज मांग स्वास्थ्य मंत्री व मुख्यमंत्री की ओर से पूर्व में ही मान ली गई थी, परंतु वित्त मंत्रालय की हठधर्मिता की वजह से मांग कागजों में ही अटकी पड़ी है। चीफ फार्मासिस्ट मधु सुदन खुराना ने कहा कि फार्मेसी एक्ट 1948 के उल्लंघन से दवाइयों का बंटवारा किया जा रहा है। इसके लिए हाईकोर्ट से स्वास्थ्य विभाग को नोटिस जारी कर दिया गया है।

फार्मेसी एक्ट 1948 के अनुसार अगर रजिस्टर्ड फार्मासिस्ट के अलावा कोई दवा संबंधी कार्य करता है तो छह महीने की सजा और जुर्माने का प्रावधान है। रिटायर फार्मासिस्ट राजकुमार, बालकिशन गुप्ता, हंसराल मल्होत्रा, वेदप्रकाश व रामकिशन ने धरने पर बैठे फार्मासिस्टों को समर्थन दिया।

इस अवसर पर राजेश गर्ग, कुलबीर मान, कुलदीप सिंह, प्रदीप, ममता, नीलम, संगीता, मुकेश, महिद्र प्रताप, श्याम सुंदर, राजीव शर्मा, कपिल शर्मा, अनिल वर्मा, राजकुमार छाबड़ा, नवीन कुमार, अरविद, संगीता, ईश्वर व नरेश गर्ग मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस